समीर लाल 'समीर' की लघुकथा- फादर्स डे

पितृ दिवस पर विशेष- फादर्स-डे


वो सुबह से ही परेशान था कि भारत में अकेले रह रहे अपने पिता को इस बार फादर्स-डे पर क्या गिफ्ट दे?
दोस्तों से बातचीत की और फिर पत्नी से गहन विमर्श किया.
यूरेका! ब्रिलियेन्ट गिफ्ट आईडिया! चेहरे पर मुस्कान फैल गई.
तुरंत ऑन लाईन सर्च किया और शहर के सबसे मंहगे एवं सर्वसुविधायुक्त ‘ओल्ड-एज-होम’ की ऑनलाइन बुकिंग करते हुए पिता जी को शिफ़्ट करा दिया.
‘ओल्ड-एज-होम’ के कमरे में ऑन लाईन आर्डर किया गया एक फूलों का गुलदस्ता एवं कार्ड पिता जी का पहले से इन्तजार कर रहे थे और कार्ड पर लिखा था-
’हैप्पी फादर्स डे"
बुढ़े बाप का वज़न

दिन-ब-दिन

जितना गिरता जाता है....

बेटे को

वो उतना भारी

बोझ नज़र आता है.


पेशे से चार्टर्ड अकाऊंटेंट और अप्रवासी भारतीय लेखक समीर लाल समीर जी हिंदी ब्लॉगिंग के बेहद लोकप्रिय ब्लॉगर होने के साथ ही शब्दों के एक कुशल चितेरे हैं । किसी भी बात को सहजता से अपनी एक विशिष्ट शैली में चुटीले शब्दों के सहारे वे एक ऐसा कथानक बुनते हैं कि पाठक उनके साथ साथ उनकी अंतिम पंक्ति तक बेरोकटोक और एक ही खटके में पहुंचना चाहता है । हाल ही में उनकी एक उपन्यासिका ” देख लूं तो चलूं ” शिवना प्रकाशन , सीहोर मध्यप्रदेश से प्रकाशित होकर आई है । आज पितृ दिवस पर उनकी एक समसामयिक एवम सारगर्भित एक लघुकथा आपके समक्ष प्रस्तुत है..


***
- समीर लाल ’समीर’

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

38 Responses to समीर लाल 'समीर' की लघुकथा- फादर्स डे

  1. गहन चिंतन और निर्णय पर अच्छा व्यंग्य किया और दर्द को गहरा किया .... यही है पिता के लिए कामनाएं !

    ReplyDelete
  2. निश्चित तौर पर मानवीय संवेदनाएं समाप्त हो रही है ....

    ReplyDelete
  3. यही समीर जी की खासियत है कम शब्दो मे गहरी बात कह जाते हैं।

    ReplyDelete
  4. मैं अपने पूरे होशहवास में कह रही हूँ कि मैं अपने बेटे के इस गिफ्ट को खुले दिल से स्वीकार करूँगी..विदेश में रह कर भी उसे अपनों की याद आई....गिफ्ट का सोचा... और दिया वही जिसकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत थी....तन्हाँ रहूँ इससे अच्छा है कि सुविधासम्पन्न ओल्ड होम में रहूँ ...

    ReplyDelete
  5. समीर जी आज की हकीकत है ..... एक भार महसूस होता है अब बेटो को .... लेकिन अहसान पैसो का [जैसे ऋण चुका कर रशीद मांग रहे हो]

    ReplyDelete
  6. समीर भाई, बहुत अच्छी बात पर मीनाक्षी जी की प्रतिक्रिया से संतोष भी मिला। हम सबको इसी तरह तैयार रहना चाहिए। बच्चे अच्छे हों तो िचंता क्यों करनी, बुरे हों तो भी चिंता क्यों करनी। समय से उन्हें संघर्ष करना है, पिताओं का युद्ध तो खत्म होने को है।

    ReplyDelete
  7. तथ्यात्मक !श्रेष्ठ और सत्य भी !

    ReplyDelete
  8. Aah! Bahut dard bharee,gahan baat hai!

    ReplyDelete
  9. बुढ़े बाप का वज़न दिन-ब-दिन जितना गिरता जाता है..बेटे को वो उतना भारी बोझ नज़र आता है.............. गहरी अभिव्यक्ति है मन की वेदना की. अब तो समय भी कम होने लगा है इतना भर सोचने को भी .....
    अभी इसी साल, मदर्स डे पर जब मेरे पापा ने फोन उठाया था और मेरे फोन करने का मूल कारण जाने, तो उन्होंने कहा था, हँसते हुए, कि "और फादर्स डे कब होता है." और मैंने कहा था कि उसी दिन बतायेगे.
    आज सुबह से फोन लगा रही हूँ यही बताने के लिए. मगर आज ही के दिन फोन नहीं लगना था. :-(
    वैसे साल में एक दिन को मदर्स या फादर्स डे कहना मुनासिब नहीं है. फिर भी साल में एक दिन ही सही, उनकी अहमियत अपने जीवन में जो है वो जताने में अच्छा तो लगता ही है.

    ReplyDelete
  10. sir sabse pahle kahe du to gaherai bhari baat kahe di bade hi sahjata se ...aur is shandar post ko sarthak karta ye chitr to lajawab hai

    jai ho gurudev

    ReplyDelete
  11. अच्छी लघुकथा

    ReplyDelete
  12. Bahut gahan sach hai ye aaj ke samaj ka...dardnaak par sach se otprot...

    ReplyDelete
  13. समीर जी की रचनाओं में गहन अभिव्यक्ति होती है...... सटीक पंक्तियाँ ....प्रासंगिक लघुकथा

    ReplyDelete
  14. pitr diwas ko fathers day kahey to behtar hogaa har shabd ko hindi me translate karna sahii nahin lagtaa

    aur har maata pita ko bachcho kaa saath chahiyae jaese bachpan me bachcho ko unka


    kehani achchi haen

    ReplyDelete
  15. गहरी सोच के साथ बहुत ही मार्मिक पोस्ट! सच्चाई को आपने बेहतरीन रूप से प्रस्तुत किया है! बड़ा ही दर्दभरा है!

    ReplyDelete
  16. आज का सच कम लफ़्ज़ों में बहुत गहरी और सच्ची बात लिख दी आपने

    ReplyDelete
  17. बहुत मार्मिक...मानवीय संवेदनाएं बिलकुल समाप्त हो चुकी हैं..

    ReplyDelete
  18. निःशब्द हूँ ... इतनी लघु है पर कितनी गहरी है ...

    ReplyDelete
  19. निस्संदेह मार्मिक ....पर मीनाक्षी से सहमत हूँ ...... बच्चे जब ,जैसे और जितना याद कर लें संतुष्ट हो जाऊंगी ,क्योंकि अगर उनसे कुछ गलत होता है तो ये संस्कार भी उनको हमसे ही मिला है .... आभार !

    ReplyDelete
  20. इतने कम अल्फ़ाज़ में आपने एक बड़ी हक़ीक़त बयान कर दी है।
    पाताल लोक में कैसे पहुंचेगी हिंदी ब्लॉगिंग ? - Dr. Anwer Jamal

    ReplyDelete
  21. दर्द को गहरा किया

    ReplyDelete
  22. bahut hi marmik kahani aur kavita uf lajavaba
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  23. aadhunik yug ki reet yad gift de kar yad jatana....aur gift bhi kaisa.....bahut sateek katha.

    ReplyDelete
  24. हम जो अपने पिता से पाते हैं...वो अपने बच्चों को देते है...शायद पिता को देने की आदत हो जाती है...ओल्ड होम से भी उनकी दुआएं ही निकलती होंगी...बेटे को आगे बढ़ता देख...उनका सर फक्र से उठ जाता है...और गिरती सेहत के प्रति वो और बेपरवाह हो जाते हैं...इट इज समथिंग वी ओ टू देम एंड कैननॉट पे बैक...बट कैन गिव इट टू अवर किड्स...

    ReplyDelete
  25. अब क्या कहें दादा, यह दर्द तो अपना भी है.

    ReplyDelete
  26. आज का सच यही है.कहानी कहाँ ये तो सबके सच लिखे हैं.आज ओल्ड एज होम में उसके पेरेंट्स हैं .कल हम होंगे परसों 'वो' खुद.
    जॉब के लिए दूर जाना बच्चो की मजबूरी भी तो है न्? वो भी क्या करे?अकेले रहते रहते वे हमसे दूर हो जाते हैं कोई तीसरा उनकी दुनिया में आये ये वे बेटे,बहु और बच्चे खुद सहन नही कर पाते.ये समय का बदलाव है.इसे स्वीकार करना होगा.
    अकेले मरने से बेहतर है ओल्ड एज होम जा कर रहा जाए हा हा हा
    हमारे साथ हमारे अपने वे लोग हैं जो अकेले हो गए.जब तक जियेंगे एक दुसरे का ख्याल रखेंगे.मौत ही हमे एक दुसरे से अलग करेगी.

    'ओल्ड होम से भी उनकी दुआएं ही निकलती होंगी...बेटे को आगे बढ़ता देख...उनका सर फक्र से उठ जाता है...और गिरती सेहत के प्रति वो और बेपरवाह हो जाते हैं.' नही. बच्चो को आगे बढता देख माता पीटा खुश जरूर होते हैं किन्तु ओल्ड एज होम में जीते हुए सोचते होंगे 'किनके लिए पूरा जीवन होम कर दिया?इनके लिए????जो इस उम्र में छोड़ गए'
    दादा! कम शब्दों में सचमुच 'दिल को छू लेने' वाली बात कह गए आप.

    ReplyDelete
  27. मैं तो यही कहूंगा कि ऐसे साधन सम्‍पन्‍न बेटे हर बाप को मिलें। अकेले रहें तो कम से कम सब सुविधाएं तो मिलें। ये हर दम संतान से चिपके रहने की ही जिद क्‍यों।

    ReplyDelete
  28. यह लघु कथा हमारे समय के एक अहम् सवाल की असरदार अभिव्यक्ति है। बधाई !

    ReplyDelete
  29. समीर जी, जीवन का ये बहुत बड़ा सच है शायद, पिता हो या माँ दोनों को वृधाश्रम की सुविधा भी अगर पुत्र दे दे तो भी स्वीकार्य है, कमसे कम कोई एक छत जो पराया हीं सही मिलेगा तो. कुछ के हालात तो ऐसे भी होते जिनको न घर मिलता न कोई आसरा होता और न होता कोई अपना, पर जीवन है तो जीना हीं होता. बहुत मार्मिक रचना, बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  30. Pooja Goswami to me

    आपने तो रुला ही दिया... आज के समय में बूढ़े माँ बाप नयी पीढ़ी के लिए बोझ से कम नहीं....

    पता नहीं क्यों रिश्तो मे इतना परायापन बढ़ता ही जा रहा....

    ReplyDelete
  31. आप सबके स्नेह का बहुत आभार.

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.