सुमन गौड़ कीक्षणिकाएँ- प्रेम!



प्रेम लौकिक है या अलौकिक या सिर्फ एक अहसास है अथवा मिलन है आत्मा से परमात्मा का या फिर दो संज्ञाओं का? प्रेम क्या है? न जाने कितनो ने पढ़ा और पढ़कर गुना और हो गए पंडित..वैसे तो ये ढाई आखर अपने में सम्पूर्ण सृष्टि समाये है पर आज प्रेम के इन ढाई आखरों को हम सुमन जी के नज़रिए से पढ़ने की कोशिश करते हैं..पेश है इन ढाई आखरों में समाई सुमन जी की सृष्टि और दृष्टि-


प्रेम क्या है
दो शब्दों का मिलन
दो आत्माओ का मिलन
दो देह का मिलन
या
लौकिकता से परे विश्वास का एक मूर्त रूप
***

प्रेम दो सरल शब्दों से बना
अलग अलग व्यक्तियों से जुड़ कर
अलग अलग रिश्तो को जन्म देते हुए
एक ही रूप में परिभाषित होता है
***

कहते है
प्रेम ईश्वर है
प्रेम साधना है
प्रेम भक्ति है
प्रेम इबादत है
प्रेम आस्था है
प्रेम में ये सब है
तो क्यू प्रेम
प्रेम से अलग हो जाता है?
***

तुम कहती हो
मुझसे प्रेम करती हो
मै कहता हूँ
तुमसे प्रेम करता हूँ
क्या कहने भर से प्रेम होता है
तो मै एक हज़ार बार तुम से प्रेम कर चुका हूँ
फिर तुम्हारा विश्वास डगमगाता क्यू है?
***

प्रेम, सिर्फ प्रेम है
निःस्वार्थ,नि:शब्द,निराकार
कुछ भी नष्ट नहीं होता प्रेम में
नष्ट होते है सिर्फ हम
अचेतन में दबी रहती है हमारी यादें, टूटे सपने
मासूम प्रसन्नताएँ,उजड़ी नींदे
उत्सवों मेलो पर
बाहर आती है कभी-कभी
प्रेम के जर्जर द्वार से
मौन उदासी के अहाते के आरपार
***

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

12 Responses to सुमन गौड़ कीक्षणिकाएँ- प्रेम!

  1. तुम कहती हो
    मुझसे प्रेम करती हो
    मै कहता हूँ
    तुमसे प्रेम करता हूँ
    क्या कहने भर से प्रेम होता है
    तो मै एक हज़ार बार तुम से प्रेम कर चुका हूँ
    फिर तुम्हारा विश्वास डगमगाता क्यू है?
    प्रेम में ये सब है
    तो क्यू प्रेम
    प्रेम से अलग हो जाता है?
    KYA KAHUN NISHABD HOON BAHUT SUNDER PREM KAVITAYEN

    ReplyDelete
  2. प्रेम पर बहुत सुन्दर और सारगर्भित क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  3. बहुत ही अच्छी क्षणिकाएं हैं....

    ReplyDelete
  4. सुंदर क्षाणिकाएँ

    ReplyDelete
  5. bahut sundar...prem ko bahut hi sundar tarike se paribhashit kiya hai ...

    ReplyDelete
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (16-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. कहते है
    प्रेम ईश्वर है
    प्रेम साधना है
    प्रेम भक्ति है
    प्रेम इबादत है
    प्रेम आस्था है
    प्रेम में ये सब है
    तो क्यू प्रेम
    प्रेम से अलग हो जाता है?
    .........
    प्रेम कभी प्रेम से अलग नहीं होता , जो दिखता है वह हमेशा सच नहीं होता , मन को प्रेम समझता है, जो ना समझे वह प्रेम कहाँ !

    ReplyDelete
  8. कहते है
    प्रेम ईश्वर है
    प्रेम साधना है
    प्रेम भक्ति है
    प्रेम इबादत है
    प्रेम आस्था है
    प्रेम में ये सब है
    तो क्यू प्रेम
    प्रेम से अलग हो जाता है?

    sach hi to kaha aapne..kyun aisa hota hai!

    ReplyDelete
  9. प्रेम
    को शब्दों में बाँध पाना
    कभी भी सहज नहीं रहा
    लेकिन
    भ्रम टूटता सा नज़र आ रहा है
    जो भी लिखा / कहा है
    सब स्वाभाविक लग रहा है ...

    अभिवादन .

    ReplyDelete
  10. Bahut badhiya kshanikayen Suman ji...Bahut hi sarthak tathya apne kavita ke roop me rakkha hai yahan...dil khush ho gaya padh kar...
    प्रेम, सिर्फ प्रेम है
    निःस्वार्थ,नि:शब्द,निराकार
    कुछ भी नष्ट नहीं होता प्रेम में
    नष्ट होते है सिर्फ हम
    अचेतन में दबी रहती है हमारी यादें, टूटे सपने
    मासूम प्रसन्नताएँ,उजड़ी नींदे
    उत्सवों मेलो पर
    बाहर आती है कभी-कभी
    प्रेम के जर्जर द्वार से
    मौन उदासी के अहाते के आरपार
    Bahut khoob hain har panktiyan...

    ReplyDelete
  11. प्रेम पर लिखीं ये क्षणिकाएँ बहुत अच्छी लगी । प्रेम ही सब कुछ ।

    ReplyDelete
  12. सुमन जी कविता प्रेम से भी बडी होती है क्‍योंकि प्रेम को कविता में लिखा जाता है.

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.