भरत तिवारी की क्षणिकाएँ

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं ....
- निदा फ़ाज़ली

संक्षिप्त परिचय:
नाम : भरत तिवारी ‘दस्तकार’
पिता : स्व. श्री एस . एस. तिवारी
माता : स्व. श्रीमती पुष्प मोहिनी तिवारी
जन्म भूमि : फैज़ाबाद (अयोध्या) उत्तर प्रदेश
कर्मभूमि : नई दिल्ली
शिक्षा : डा. राम मनोहर लोहिया (अवध विश्वविद्यालय ) से विज्ञान में स्नातक
मैनेजमेंट में स्नातकोत्तर
अभिरुचि: कला , संगीत , लेखन (नज़्म, गीत, कविता) और मित्रता
संप्रतिः पि. ऍम. टी. डिजाइंसके ऍम. डी. आर्किटेक्ट और इंटीरियर डिजाईन में बेहद झुकाव तथा उसमे नई रचनात्मकता के लिए लगातार उधेड़बुन.
प्रकाशनः देश की कई पत्र पत्रिकाओं और ब्लोग्स में सतत प्रकाशन. खुद के ब्लॉग “दस्तकार” का पिछले २ सालों से सफलतापूर्वक संचालन
पता : बी – ७१ , त्रिवेणी , शेख सराय – १, नई दिल्ली , ११० ०१७
ईमेल :mail@bharttiwari.com
दूरभाष : 011-26012386
अपने बारे में : माँ मेरी हिन्दी की अध्यापिका थीं और उनका साहित्य से लगाव काफी प्रभाव डाल गया बचपन से ही अमृता प्रीतम , महादेवी वर्मा , कबीर और साथ ही जगजीत सिंह के गायन ने निदा फाज़ली, ग़ालिब की ओर मोड़ा शायद वहीँ से चिंतन की उत्पत्ति हुई जो अब मेरे लेखन का रूप लेती है
बेड साइड बुक्स :गुनाहों का देवता , निदा फाज़ली संग्रह, इलुजंस, द एल्कमिस्ट, ग़ालिब, गुलज़ार और भी हैं, लंबी लिस्ट है

(एक)

क्या वजह होगी

जो सन्नाटा

बन गया था जीवन

क्यों टूटा !



(दो)

तुम्हारी वो आवाज़

आज भी सुनाई देती है

जब कभी

हमारे तुम्हारे बीच का सन्नाटा बोलता है



(तीन)

तुम्हारी आँखें बोलती हैं

आखों का बंद मौन

सारे सन्नाटे को चुप कर देता है

और दिल एक जरिया बस

आवाज़ वैय्कुम में सफर नहीं करती



(चार)

मेरी एक चुप

हमारी सारी बातों को समेट गयी

तुम पूछ लेते

ये सन्नाटा ना होता तब



(पांच)

ये लड़ाई का सन्नाटा

अजीब होता है

बोलता है जैसे शोर

कर नहीं पाता दूर सन्नाटे को लेकिन

अपनी मौत को खुद तलाशता

गुम होने के लिए



(छह)

वैसे तुम कभी बोले नहीं

मैंने हमेशा सुना , फिर भी

कहीं इसी को प्यार की भाषा नहीं कहते

एक बार शायद कुछ कहा था तुमने

वो मैं सुनना नहीं चाहता था

उसे शायद प्यार की भाषा नहीं कहते होंगे

उसके बाद ही तो पैदा हुआ था

हमारा सन्नाटा

अब तक फैला है



(सात)

बंद कमरे की हवा

गीला लिहाफ तकिये का

इंतज़ार है

दरवाजे के खुलने का

शायद ताज़ी हवा उड़ा ले जाये

इस सीले सन्नाटे को

***

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

22 Responses to भरत तिवारी की क्षणिकाएँ

  1. बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ| तिवारी जी को बधाई|

    ReplyDelete
  2. यह सन्नाटा भी बहुत कुछ कह गया ...एक से बढ़ कर एक क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ....

    बेहतरीन प्रस्तुति..के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  4. ये लड़ाई का सन्नाटा
    अजीब होता है
    बोलता है जैसे शोर
    कर नहीं पाता दूर सन्नाटे को लेकिन
    अपनी मौत को खुद तलाशता
    गुम होने के लिए.......वाह बहुत सुन्दर लेखन जी !!Nirmal Paneri

    ReplyDelete
  5. hamesh ki tarah.............yeh chanikayein bhi behad umda hai.......kabhii kabhi maun kitna asardaar hota hai................bina kahe bahut kuch kah jata hai.....................aap yuun hi lihtey rahein.aur ham padhtey rahein..............dhanyawaaaaaaaaad

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ****
    बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  7. bahut khoob Bharat ji...sannate ki bhasha ko padhna bahut durooh karya hai...maine bhi kayi nbaar koshish ki hai...par aap poori tarah safal huye hain isme...
    तुम्हारी वो आवाज़

    आज भी सुनाई देती है

    जब कभी

    हमारे तुम्हारे बीच का सन्नाटा बोलता है

    bahut badhiya.

    ReplyDelete
  8. bahut hi sundar blog aur kavitaye.....keep it up bhai..........

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर क्षणिकाएँ..........बधाई...!

    ReplyDelete
  10. भरत भाई, आपकी की ये क्षणिकाएं , जो एक क्षण में पढ़ डाली मैंने, मगर एक लम्बे समय तक मेरे मन-मस्तिष्क में गूंजती रही, इन 'सन्नाटों' की आहट....

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर... भारत जी ..आपके द्वारा फैलाये इस सन्नाटे ने तो हमारी बोलती बंद कर दी ..और यहाँ भी फ़ैल गया है एक सन्नाटा ... वाह ..:))

    ReplyDelete
  12. सन्नाटे की कहती , सन्नाटे को गुनती .. गाती , जीती सुन्दर क्षणिकाएं .. बधाई भैया

    ReplyDelete
  13. 'जब हम हुए चुप तो बोला सन्‍नाटा।' भरत ने वाकई सन्‍नाटे के भाव का खूबसूरत प्रयोग किया है। अच्‍छी क्षणिकाएं हैं, गहरा अहसास देने वाली। बधाई।

    ReplyDelete
  14. आपसी रिश्‍तों के बीच पनपते सन्‍नाटे के भाव को इन छोटी-छोटी क्षणिकाओं में खूबसूरत शब्‍द दिये हैं भरत ने। बहुत सुन्‍दर बन पड़े हैं ये काव्‍यांश। बधाई ।

    ReplyDelete
  15. मेरी एक चुप
    हमारी सारी बातों को समेट गयी
    तुम पूछ लेते
    ये सन्नाटा ना होता तब-
    निजी व्यथा एवं आपसी संबंधों के बारे में सलीके से कहतीं ये पंक्तियाँ आपकी परिपक्व लेखनी का परिचायक है. मेरी बधाई स्वीकारें -अवनीश सिंह चौहान

    ReplyDelete
  16. भरत जी ने छोटी छोटी क्षणिकाओं के माध्यम से जीवन के बहुत से अनुभवों का सार..हम सबके बीच रख दिया..बहुत नज़ाकत के साथ और बडी खूबसूरती के साथ..बधाई

    ReplyDelete
  17. ये लड़ाई का सन्नाटा

    अजीब होता है

    बोलता है जैसे शोर

    कर नहीं पाता दूर सन्नाटे को लेकिन

    अपनी मौत को खुद तलाशता

    गुम होने के लिए

    बहुत खूबसूरत क्षणिकाएं ..... बधाई हो आपको

    ReplyDelete
  18. amazing visual imagery of pain SANNATA..

    ReplyDelete
  19. Sirji, hamne to aap ko jis roop me Basti me Prayank sir ke saath dekha tha uska aaj taak gun gaan karte hai aur ab ye roop mere liye PUJYANIYA bana diya hai,Mera saare dost aap ke baare me janate hai lekin ab mai unko aap ke es roop ka darshan karauga.

    Aap ka Student....Muneendra Tripathi, Basti now Mumbai

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.