क्रांति की कविताएँ

१. अपनी-अपनी धूप

जाने कब तक
जाने कब की,
अपनी-अपनी
धूप है सब की,
जिस को उठाए
फिरते हम-तुम,
कहने को सब
साथ हैं जबकि


२. मेरा गांव

बस वही अच्छा था
बस वही अच्छा था
मेरा गांव,
गांव की मिट्टी,
मिट्टी के घर,
घर में रहते लोग,
लोगों के मन,
मन में पलता प्यार,
प्यार की खुशबू,
खुशबू की कोई जात न पात.
बस वही अच्छा था
मेरा गांव,
गांव की नदी,
नदी के घाट,
घाट से छूटती नाव,
नाव में हाथ हिलाते मुसाफिर,
मुसाफिरों का मालूम अता ना पता.
बस वही अच्छा था
मेरा गांव,
गांव में खेत ,
खेत में पेड,
पेड में कोटर,
कोटर में पंच्छी,
पंछियों के साथ हम उडते आकाश
आकाश का कोई आदि न अंत.

बस वही अच्छा था , मेरा गांव_
मैं क्या सपना लेकर शहर में आई थी
मेरी आंखों से नींद भी उड गई है.


३. सभ्यता के अवशेष

फिर वह चाहे कितनी ही
असभ्य क्यों न रही हो
अवशेष हमेशा किसी न किसी
सभ्यता के ही कहाते हैं .

कितना अच्छा है/ आज से
पांच-दस हजार वर्ष आगे चलकर
हमारे भी जीवाश्म
किसी सभ्यता की खोज कहाएंगे


४. इन दिनों

इन दिनों हाथी सीधी चाल नहीं चलता
और न हीं घोडा ढाई घर
और न हीं ऊंट टेढा चलता है दायें-बायें
अब तो न राजा को शह लगती है
और न उसकी होती है मात.
मगर आज भी
हर तरह की चाल चलता है वजीर
और हां, आज भी मरने को तैयार
प्यादे खडे हैं अगली पंक्ति में
**
-क्रांति

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

8 Responses to क्रांति की कविताएँ

  1. खूबसूरत कवितायें।
    तीसरी कविता पर कहता हूँ कि:
    कभी जब खोजी जायेगी,
    हमारी सभ्‍यता,
    तो इसे
    क्‍या नाम दिया जायेगा?
    कहीं 'अ-सभ्‍यता' तो नहीं?
    चौथी कविता में प्रस्‍तुत शतरंजी बिसात का रूप पहली बार देखा है।

    ReplyDelete
  2. गाँव की मिट्टी से जोड़ती तथा समसामयिक पहलुओं को उजागर करती प्रशंसनीय रचनाएँ

    ReplyDelete
  3. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 25-01-2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. सर्वप्रथम मन मे भाव का उमड़ना, शब्दों का चयन, उनका पंक्तिबद्ध अलंकरण…………क्या उम्दा प्रस्तुति है। सब कुछ तो है यहां।

    ReplyDelete
  6. kranti ji

    ye rachanaye pahale nahi padhi. bahut sundar abhivyakti. sakhi tumhari rachnao ka loha to manana hi padega. Guzrat sammelan kaisa raha?

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचनाएं। खास कर 'इन दिनों' रचना हमें बहुत अच्छी लगी।

    मीनाक्षी एवं अश्विन चंदाराणा

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.