Archive for 9/1/10 - 10/1/10

पित्तरों की पूजा को समर्पित : जया केतकी



Jk) ds l¨Ykg fnu Òkjrh; lekt esa firj¨a dh iwtk ds fYk, lefiZr gSaA vuUr prqnZ'kh ds nwljs fnu Ákr%dkYk Luku ds iÜpkr firj¨a dh ihB dh LFkkiuk dh tkrh gSA ;g ihB ifjokj dk d¨bZ Òh iq#"k LFkkfir dj ldrk gSA bu l¨Ykg fnu¨a esa og vius ifjokj ds e`r lnL;¨a d¨ J)katfYk nsrk gSA

i©jkf.kd /kkj.kkv¨a ds vuqlkj ;g iwtk bZÜoj dh iwtk ls fcYdqYk i`Fkd g¨rh gSA Òxoku dh iwtk dh rjg ;gka /;ku v©j vkjrh dk egRo ugha gSA ;g iwtk firj¨a ds fYk, *riZ.k* ds egRo d¨ LFkkfir djrh gSA firj¨a d¨ riZ.k ds }kjk ikuh fn;k tkrk gSA

,slh ekU;rk gS fd rhu ih<+h ds Yk¨x blesa 'kkfeYk g¨rs gSa] firk] nknk rFkk ijnknk] ds fYk, iq«k] i©«k v©j Ái©«k }kjk riZ.k fd;k tk ldrk gSA lkFk gh mu lÒh e`r vkRekv¨a dk Òh /;ku bu fnu¨a djuk pkfg,A ftudk vkils tqM+ko jgk gSA bl l¨Ykg Jk) ds n©jku ?kj esa t¨ Òh Ò¨tu ;k idoku cuk;s tkrs gSa] mudk Ò¨x firj¨a d¨ Ykxkdj gh vU; lnL; mls xzg.k djrs gSaA viuh J)k v©j 'kfä ds vuqlkj czkã.k¨a d¨ Òh Ò¨tu djkus v©j nku nsus dh ijaijk gSA bl Ádkj ds fu;e¨a d¨ djus ls e`rkRekv¨a d¨ 'kkafr feYkrh gS v©j mudh ÒVdrh vkRek] e¨{k ÁkIr djrh gSA

l¨Ykg Jk)¨a esa iq«k dk nkf;Ro g¨rk gS fd og J)k Òfä v©j fu;e iwoZd bu deks± d¨ iwjk djsA fgUnw laLdkj¨a ds vuqlkj ;g ekuk tkrk gS fd t¨ iq«k vius iwoZt¨a d¨ bu fnu¨a esa riZ.k ugha djrk gS og nq[kh v©j ijs'kku jgrk gSA vr% vius iwoZt¨a dh vkRek 'kkafr v©j vius [kq'kgkYk thou ds fYk, l¨Ykg Jk) fu;eiwoZd djuk pkfg, t¨ l¨Ykg fnu rd bl fu;e dk ikYku ugha dj ikrs os vius iwoZt¨a ds e`R;q frFkh ds fnu czkã.k d¨ Ò¨tu djkrs gSa rFkk ;Fkk'kfä nf{k.kk nsdj bl fu;e dk ikYku djrs gSa t¨ O;fä frfFk ij Òh ;g dk;Z ugha dj ikrs os l¨Ykg Jk)¨a ds vafre fir`e¨{k vekoL;k ds fnu czkã.k Ò¨t djkdj fu;e dk ikYku djrs gSaA bl Ádkj lÒh iwoZt¨a dk vkàku dj {kek;kpuk dh tkrh gSA

fir`e¨{k vekoL;k ds fnu lÒh e`rkRekv¨a dk ,d lkFk /;ku dj riZ.k ds }kjk mUgsa ikuh nsdj czkã.k Ò¨t djkdj oó crZu] nf{k.kk vkfn ls fonk fd;k tkrk gSA ,slk djus okYkk O;fä lq[k ls thou O;rhr djrk gS rFkk vius firj¨a dk vk'khokZn lnk mlds lkFk jgrk gSA l¨Ykg Jk)¨a esa unh v©j rkYkkc ij tkdj riZ.k djus dk fo'ks"k egRo jgrk gSA blfYk, Yk¨x unh ds ifo«k tYk ls Luku djds riZ.k djrs gSa ijarq ;fn unh rkYkkc u tk ldsa r¨ ?kj ij gh fu;e ikYku fd;k tk ldrk gSA fgUnw ekU;rk ds vuqlkj fdlh Òh O;fä dh e`R;q ds rhljs o"kZ mls firj¨a esa feYkk;k tkrk gSA bls fi«k feYk©uh ;k iVk dgrs gSaA bu Jk)¨a esa e`r O;fä dh e`R;q dh frfFk ds fnu riZ.k] fiaM] nku czkã.k Ò¨t v©j nku iq.; fd;k tkrk gSA

ifjokj ds ukrs fj'rsnkj¨a v©j fe«k¨a vkfn d¨ Ò¨tu djk;k tkrk gSA bl Ádkj e`rkRek d¨ firj¨a esa 'kkfeYk fd;k tkrk gSA firj¨a dh bl iwtk dh lqfo/kk ds fYk, vusd LFkku¨a ij esYks dk vk;¨tu fd;k tkrk gSA l¨Ykg Jk)¨a ds n©jku bu LFkku ij tkdj Òh Jk) deZ fd;k tk ldrk gSA gekjs ns'k esa Á;kx x;k esa fo'kkYk esYks dk vk;¨tu fd;k tkrk gSA ,slh /kkj.kk gS fd t¨ O;fä fir` i{k ds n©jku x;k ds QkYxw unh ds rV ij cus fo".kqin eafnj ds Ákax.k esa fiaMnku djrk gS] muds fir`¨a d¨ e¨{k ÁkIr g¨rk gSA

x;k esa fi.Mnku

fgUnw /keZ ds vuqlkj Jk) i{k esa firj¨a dh iwtk dk fo'ks"k egRo g¨rk gSA Òkæin 'kqDYk dh prqnZ'kh ds nwljs fnu ls vkjaÒ g¨dj fir`e¨{k vekoL;k rd l¨Ykg fnu¨a rd *riZ.k* fd;k tkrk gSA

lukru fgUnw /keZ esa x;k esa fi.Mnku dk fof'k"V LFkku gSA ,slh ekU;rk gS fd iwoZt¨a ds e¨{k ds fYk, fir`i{k ds n©jku x;k tkdj fi.Mnku djuk pkfg,A QkYxq unh ds fdukjs cus fo".kq in eafnj] v{k;or rFkk vU; dqYk feYkkdj 28 LFkku¨a ij ,slh O;oLFkk dh tkrh gS tgka tkdj ;teku lqfo/kkiw.kZ jhfr ls fi.Mnku dj ldsaA

x;k esa vk;¨ftr bl esYks esa ;teku¨a dh lqfo/kk ds fYk, lLrs nke¨a esa Ykkftax&c¨fM±x dh O;oLFkk dh tkrh gSA bu LFkku¨a ij fu/kkZfjr igqap ekxZ dh O;oLFkk Òh fp«k¨a] iaiYksV v©j g¨fM±x ds }kjk dh tkrh gSA ;gak ds bu 28 eq[; LFkku¨a ij fi.Mnku dh O;oLFkk jgrh gSA ¼1½ oSrj.kh dq.M ¼2½ czã lj¨oj ¼3½ #def.k dq.M ¼4½ x¨nkojh dq.M¼5½ jkef'kYkk ¼6½ /keZdq.M ¼7½ Ásrf'kYkk ¼8½ x;klqj ¼9½ #e dq.M¼10 nso?kkV ¼11½ ftà¨Yk ¼12½ /otin ¼13½ x;k dwi ¼14½ /kekZU;k ¼15½ vkfnx;k ¼16½ v{k;oV ¼17½ dkxoYkh ¼18½ xnYk¨Yk ¼19½ iaprhFkZ fo".kqin ¼20½ ÒhetqYkk ¼21½ x¨Ákpj ¼22 jkex;k¼23 ½ lhrk dq.M ¼24½ dq.MÁLFk ¼25½ firkegsÜoj ¼26½ nf{k.k ekuql lw;Zdq.M½ ¼27½ c¨/kx;k½ 28 ljLorh osnhA

bl n©jku ftYkk Á'kklu }kjk vkxUrqd¨a dh lqfo/kk dk fo'ks"k /;ku j[krs gq, lkQ&lQkbZ] fpfdRlk rFkk okgu lqfo/kk dh O;oLFkk dh tkrh gSA QkYxq nso?kkV rFkk fo".kqin eafnj d¨ fo'ks"k #i ls vkd"kZd cuk;k tkrk gSA unh v©j dqaM¨a esa Áfrfnu lQkbZ dh O;oLFkk jgrh gSA ftlls ;teku LoPN Luku esa J)kiwoZd deZ dj ldsaA

'kklu }kjk O;oLFkk cuk;s j[kus ds fYk, fjax cl lfoZl uke ls jsYkos LVs'ku ls cl lqfo/kk miYkC/k dh tkrh gS t¨ pkj Áeq[k #V¨a ¼ekxksZ½ ls g¨dj Áeq[k deZLFkYk¨a rd tkrh gSA bu cl¨a dk fdjk;k Òh fu/kkZfjr jgrk gSA ftlls vkxUrqd¨a d¨ vlqfo/kk u g¨A

fdjk;k lwph& #i;k

1& LVs'ku ls fo".kqin&#i;k 10-00

2&fo".kqin ls c¨/kx;k #i;k 10-00

3&LVs'ku ls pkan p©jk #i;k 10-00

4&fo".kq in ls jkef'kYkk&15-00

5&fo".kq in ls Ásrf'kYkk& 15-00

ftYkk Á'kklu }kjk ;teku¨a dh LokLF; lqj{kk d¨ /;ku esa j[krs gq, 16 LFkku¨a ij fu%'kqYd fpfdRlk dsaæ [k¨Yks tkrs gSaA ;g fpfdRlk dsaæ 24 ?kaVs] fnu jkr [kqYks jgrs gSaA

fpfdRlk dsaæ&

1& x;k jsYkos LVs'ku] 2&tsYk Ásl ds ikl] 3&ftYkk LdwYk ds ikl] 4&fo".kqin m|~uku] 5&egkohj LdwYk] 6&pkan p©jk e¨M+] 7&'kkgehj iatkch /keZ'kkYkk] 8&?kq?kjhuan pSd i¨LV] 9&jkef'kYkk e¨M+] 10&Ásr f'kYkk] 11&cfeZl fogkj c¨/kx;k] 12&iwoZ jkelkxj rkYk] 13&frYgk /keZ'kkYkk] 14&xka/kh eSnku] 15&gjhnkl lsfeujh] 16&egkc¨/kh eafnj] c¨/kx;kA

bl fir`i{k ds esYks esa vkus okYks ;kf«k;¨a dh lqj{kk ds fYk, esYkk Ákax.k esa fo'ks"k lqj{kk nYk rSukr fd;s tkrs gSaA iwjs esYkk Ákax.k d¨ 11 nYk¨a esa ckaV fn;k tkrk gSA tgka fnu jkr 24 ?kaVs iqfYkl ds lkFk gh 'kó/kkjh toku¨a dh VqdfM+;ka igjk nsrh gSA ftudk fujh{k.k iqfYkl p©fd;¨a dk fuekZ.k dj laosnu'khYk {ks«k¨a d¨ fu;a«k.k esa j[kk tkrk gSA

iqfYkl dsaæ¨a ds uacj&

d¨rokYkh iqfYkl LVs'ku&0631&2420082] flfoYk Ykkbu iqfYkl LVs'ku&0631&2420035] eqQflYk&0631&2450004 nsYgk 0631&2420192] c¨/kx;k& 0631&2400741] pkan©jh&0631&2221072

jkeiqj&0631&2420524] iqfYkl daVª¨Yk #e&0631&2420800-

lÒh iaMk Yk¨x¨a d¨ Q¨V¨ ;qä ikl fn;s x;s gSaA ftlls ;teku fdlh Òh Ádkj Bxs u tk ldsA deZ ls lacaf/kr lkexzh ds 28 mfpr ewY; dsaæ Òh [k¨Yks x;s gSaA blds vfrfjä ftYkk Á'kklu }kjk ;kf«k;¨a ds okgu¨a dh lqj{kk ds fYk, pkj LFkku¨a ij Áeq[k ikfd±x O;oLFkk dh xbZ gSA 1&x;k dkYkst xzkmaM] /k¨ch ?kkV]A2&Ásrf'kYkk jsYkos Økflax ds ikl iVuk#V ds okguA4&x;k i‚fYkVsfd~ud& uokMk o c¨/kx;k #V 4& fo".kq in rqYklh ikdZ& ljdkjh okguA fo'ks"k cl& vÏs 1& fldfj;k e¨M+] eqQflYk e¨M+] nsYgk iapk;rh v[kkM+k] iwohZ ppZ j¨M cl LVSaMA blds lkFk gh ;teku¨a ds fYk, LoPN Ò¨tu rFkk ihus ds ikuh dh O;oLFkk Òh Á'kklu }kjk dh xbZ gSA

Posted in | 2 Comments

डॉ. वेद व्यथित की पाँच कविताएँ

रचनाकार परिचय
नाम: डॉ. वेद व्यथित
मूल नाम- वेद प्रकाश शर्मा
जन्म – 9 अप्रैल, 1956 ।
शिक्षा- एम. ए. (हिंदी), पी० एचडी. (नागार्जुन के साहित्य में राजनीतिक चेतना) ।
प्रकाशन- कविता कहानी उपन्यास व आलोचना पर निरंतर लेखन ।
कृतियाँ- मधुरिमा (काव्य नाटक), आख़िर वह क्या करे (उपन्यास), बीत गये वे पल, (संस्मरण), आधुनिक हिंदी साहित्य में नागार्जुन (आलोचना), भारत में जातीय साम्प्रदायिकता (उपन्यास),

अनुवाद- जापानी तथा पंजाबी भाषाओँ में रचनाओं का अनुवाद ।
सहभागिता- हिंदी जापानी कवि सम्मेलनो में ।
संबंद्धता- अध्यक्ष - भारतीय साहित्यकार संघ
संयोजक - सामाजिक न्याय मंच
शोध सहायक - अंतरराष्ट्रीय पुनर्जन्म एवं मृत्यु उपरांत जीवन शोध संस्थान भारत
सम्पादकीय सलाहकार - लोक पुकार साप्ताहिक पत्र
परामर्शदाता - समवेत सुमन ग्रन्थ माला
सलाहकार - हिमालय और हिंदुस्तान
सदस्य - सलाहकार समिति नेहरु युवा केंद्र, फरीदाबाद, हरयाणा
विशेष प्रतिनिधि - कल्पान्त मासिक पत्रिका
उपाध्यक्ष - हम कलम साहित्यिक संस्था
पूर्व प्रांतीय संगठन मंत्री -अखिल भारतीय साहित्य परिषद हरियाणा
तुम्हारा हृदय

मुझे सामने देख कर ही
शायद उभरीं थी
तुम्हारे चेहरे पर विषाद की रेखाएं
मुझे भी हुई थी ग्लानि उन से
परन्तु अगले ही क्षण
समुद्र में उठे ज्वार सी
शांत रेखाओं में परिवर्तित होते
देखा था मैंने उन को
शायद क्षमा कर दिया होगा तुम ने मुझे
अपनी सहृदयता और
नेह शीलता के कारण
यही था मेरे लिए
जीवन का
सर्वाधिक सुखद क्षण
क्योंकि अवश्य ही तुमने
जान ली होगी
मेरी विवशता और निर्दोषता


मेरी अनुकूलताएँ

हमेशा अनुकूलताओं के ही लिए ही
आग्रह था मेरा
जैसा मुझे अच्छा लगे
उसे ही उचित समझना
कौन सा न्याय था मेरा
परन्तु फिर भी तुम
हिम खंड सी गलती रहीं
मेरी अनुकूलताओं के लिए
उस के प्रवाह को बनाये रखने के लिए
तुम कठोर चट्टान क्यों नही हुईं
मेरी इन व्यर्थ अनुकूलताओं को
रोकने के लिए
जो बर्बरता से अधिक
कुछ भी न थीं
शायद तुम्हें पता भी था कि
कहाँ है मुझ में इतना साहस
जो चट्टान से टकराता
या तो वापिस मुड जाता या
झील बन कर वहीं ठहर जाता
जो दोनों ही सम्भवत:
पसंद नही थे तुम्हे
परन्तु कोई तो रास्ता
निकलना चाहिए था
उस हिम खंड को गलाने के बजाय भी
ताकि बचा रहता तुम्हारा
रूपहला अस्तित्व और मेरी अनुकूलताएँ ||

मेरा अहं

मेरे अहं को ले कर
उठाये गये तुम्हारे प्रश्न
निश्चित ही सार्थक होंगे
परन्तु बचा ही कहाँ
मेरा अहं
जब तुमने
निरुतर कर दिया मुझे
अपनी स्नेह सिक्त दृष्टि से |
निश्चय ही तुम्हें चुभे होंगे
मेरे कर्कश ,कटु और कठोर शब्द
परन्तु रस सिक्त कर दिया था
तुमने मुझे
अपनी अमृत सी मधुर वाणी से |
निश्चित ही मेरी नासिका
संकुचित हुई होगी
परन्तु मलय सिक्त कर दिया था
तुमने अपनी शीतल सुबास से |
निश्चय ही मेरा रोम रोम
शूल सा रहा होगा तुम्हारे लिए
परन्तु रोमांचित कर दिया तुम ने मुझे
अपने सुकोमल स्पर्श से ||

मौन

तुम्हारा मौन
कितना कोलाहल भरा था
लगा था
कहीं बादलों की गर्जन के साथ
बिलजी न तडक उठे
तुम्हारे मौन का गर्जन
शायद समुद्र के रौरव से भी
अधिक भयंकर रहा होगा
और उस में निरंतर
उठी होंगी उत्ताल तरंगें ,
तुम्हारे मौन में उठते ही रहे होंगे
भयंकर भूकम्प
जिन से हिल गया होगा
पृथ्वी से भी बड़ा तुम्हारा हृदय
इसी लिए मैं कहता हूँ कि
तुम अपना मौन तोड़ दो
और बह जाने दो
अपने प्रेम की अजस्र धारा
भागीरथी सी पवित्र व शीतल
दुग्ध सी धवल
ज्योत्स्ना सी स्निग्ध व सुंदर
और अमृत सी अनुपम

तुम्हारा मन

सागर
वह तो कुछ भी गहरा नही था
तुम्हारे मन के आगे
आखिर अब था ही क्या उस में
काम धेनु ,उर्वशी ,रत्न और
अमृत आदि तो
पहले ही निकल लिए गये हैं उस में से
परन्तु तुम्हारा मन तो
अब भी अथाह भंडार है -
प्यार का ,ममता का, स्नेह का ,
सम्बल का ,प्रेरणा का
और न जाने कौन कौन से अमूल्य रत्नों का
बेशक
अपार करुणा ,व्यथा ,पीड़ा ,
वेदना और न जाने क्या क्या
अब भी समाहित होता जा रहा है
तुम्हारे मन में
परन्तु फिर भी उथली नही है
जिस की थाह सागर सी
सोचता हूँ
कितना गहरा है तुम्हारा मन
सागर से तो अनेक गुना गहरा
और सामर्थ्यवान भी
जिस में समाप्त नही होता है
उर्वशी का लावण्य ,
कामधेनु की समृद्धि ,
पीड़ा का ममत्व ,
लक्ष्मी का विलास
और तृप्तिं का अमृत
***

Posted in | 27 Comments

प्रेमचन्द सक्सेना 'प्राणाधार' की रचना- हिंदी

रचनाकार परिचय
नाम- प्रेमचन्द सक्सेना 'प्राणाधार'
पिता- स्व. श्री महेश्वर दयाल सक्सेना
जन्म- ३० जनवरी, १९२६
शिक्षा- एम-ए- हिंदी एवम वैद्य विशारद।
कवि, कहानीकार, उपन्यासकार, एकांकीकार, नाटककार, संस्मरण लेखक।
कार्यक्षेत्र- राजकीय सेवा में प्रसार अध्यापक के पद से सन १९८४ में सेवा निवृत हुए। हिन्दी की विख्यात संस्था 'सरस्वती साधना परिषद्' के संस्थापक अध्यक्ष हैं।
निवास-२८८-अ, गाडीवान, भीमसेन मन्दिर के सामने, मैनपुरी-२०५००१, उत्तर प्रदेश
दूरभाषः- ०९३१९१४०२१८
हिन्दी

ज्ञान और विज्ञान की ।

मानव के उत्थान की ।

जन-मानस की प्यारी भाषा,

हिन्दी हिन्दुस्तान की।

बृजभाषा में श्याम छिपे।

अवधी में श्री राम छिपे।

अपढ कबीरा की भाषा में,

निराकार, निष्काम छिपे।

गीता के उपदेश गा रहे-

गाथा जन-कल्याण की।



मीरा की वंदना यही।

तुलसी की अर्चना यही।

सूर, कबीर, नरोत्तम जैसे-

भक्तों की साधना यही।

इनका अन्तर्नाद विधा है,

विधि के नये विधान की।



यह कबीर की भाषा है।

यह रहीम की भाषा है।

सन्त जायसी के रहस्य की-

यही सत्य परिभाषा है।

मुरली के मधुरस में डूबी-

राधा है रसखान की।



जन-जन का अनुराग लिए।

बीते राग-विराग लिए।

महाशान्ति के सागर में यह-

महाक्राँन्ति की आग लिए।

देवांगरी लिपि में बांधे,

महिमा यह बलिदान की।



हर भाषा से ममता है।

आत्मसात की क्षमता है।

इसकी तुलना नहीं किसी से,

और न कोई समता है।

नवरस की जननी ने चिन्ता-

कभी न की विषपान की।

पावन यही देव वाणी।

मोहित है वीणा-पाणी।

शब्द, अर्थ, अनुभूति भाव-

अनुभाव लिए मुखरित प्राणी।

आदिकाल से मनु की हिन्दी-

भाषा है भगवान की।
***

Posted in | 14 Comments

राजेश उत्‍साही की दो कविताएँ

राजेश उत्‍साही मप्र की अग्रणी शैक्षिक संस्था एकलव्य में 1982 से 2008 तक कार्यरत रहे हैं। संस्‍था की बाल विज्ञान पत्रिका ‘चकमक’ का 17 साल तक कुशल संपादन किया है। वे मप्र शिक्षा विभाग की पत्रिका ‘गुल्‍लक’ तथा ‘पलाश’ के संपादन से भी जुड़े रहे हैं। नालंदा,रुमटूरीड तथा मप्रशिक्षा विभाग के लिए बच्‍चों के लिए साहित्‍य निमार्ण कार्यशालाओं में स्रोतव्‍यक्ति के रूप में भी सम्मिलित रहे। उन्‍होंने गद्य-पद्य की समस्त विधाओं में अपनी उपस्थिति दर्ज की है, जिनमें कविताएँ, कहानी,लघुकथाएं, व्‍यंग्‍यलेखन आदि शामिल हैं। राजेश उत्साही को बच्चों के लिए साहित्‍य रचने, रचे गए को पढ़ने और उसकी समीक्षा करने में गहन रुचि रही है। यही कारण है कि उनके काव्य में मासूमियत, जिज्ञासा और नए अनुसन्धान की उत्‍कंठा स्पष्टतः झलकती है, जो उनके जिज्ञासु, निर्मल और सच्चे उदगार की प्रतीक है। मगर जैसे कविता उनमें जीती है। अपने अलग अंदाज़ से काव्‍य को नयापन देने वाले उत्साही जी की दो कविताएँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं। इनमें कल्पना की उड़ान भर नहीं है बल्कि जीवन के पहलुओं एवं खासियत को तुलनात्मकता से देखने और दिखाने की जद्दोजहद भी है। भात और दाल के प्रतीक से वे कवि के अंदर की छटपटाहट को ‘सशर्त’ समझने की चुनौती देते हैं। डॉन और कवि की विभावना और सम्भावनाओं से भी हमें परिचित करवाते हैं। आशा है ‘आखर कलश’ के पाठकों को उनकी तीखी कलम से निकली प्रवाहिता पसंद आएगी। - पंकज त्रिवेदी
१.
कवि भी एक कविता है

पढ़ो
कि कवि भी
एक कविता है

कवि
जो महसूस करता है
अंतस में अपने
वही
उतारता है
शब्दों में ढाल कर

कवि
जो महसूस करता है
वह दौड़ता है उसकी रगों में
वही उभरता है उसके चेहरे पर

कविता
जब तक पक नहीं जाती
(बेशक वह कवि का भात है)
या कि
जब तक वह उबल नहीं जाती
(बेशक वह कवि की दाल है)
या कि
जब तक वह पल नहीं जाती
(बेशक वह कवि की संतान है)
तब तक
छटपटाती है
कवि के अंतस में
छलकती है चेहरे पर
झांकती है आंखों से



इसलिए
पढ़ो
कि कवि
स्वयं भी एक कविता है

बशर्ते कि तुम्हें पढ़ना आता हो!
*******

२.
कविता बिना कवि

कविता
के बिना
एक कवि का आना
मैदान में

शायद
उतना ही बड़ा आश्चर्य है
जितना
बिना हथियार के
घूमना ‘डॉन’ का


डॉन
शरीर पर चोट
पहुंचाता है
कवि
शरीर नहीं
आत्मा पर वार करता है

शरीर की चोट
घंटों,दिनों,हफ्तों या कि
महीनों में भर जाती है


आत्मा
पर लगी चोट
सालती है
वर्षों नहीं, सदियों तक


इसलिए
कवि को आश्चर्य
नहीं होना चाहिए
कि उससे पूछा जाए
कहां है उसकी कविता ?
***

सम्‍पर्क :
मोबाइल  09611027788,
ब्‍लाग   
http://utsahi.blogspot.com गुल्‍लक  
http://apnigullak.blogspot.com यायावरी
http://gullakapni.blogspot.com गुलमोहर

Posted in | 35 Comments

शिवराज छंगाणी की पुस्तक समीक्षा : एक कोशिश रोशनी की ओर – श्रीमती आशा पाण्डे ओझा का काव्य-संग्रह

पुस्तक समीक्षा
एक कोशिश रौशनी की ओर (काव्य-संग्रह)
कवयित्री- श्रीमती आशा पाण्डे ओझा
समीक्षक- शिवराज छंगाणी
पुस्तक मूल्य- १२० रुपये
अम्बुतोष प्रकाशन,
४९ वनविहार, वैशाली नगर, अजमेर।

समीक्षक हिंदी एवं राजस्थानी के वरिष्ठ साहित्यकार हैं जो कई सम्मान और पुरस्कार प्राप्त कर चुके हैं. वर्तमान में राजस्थानी भाषा साहित्य अक्कादामी, बीकानेर से प्रकाशित मासिक पत्रिका 'जागती जोत' के संपादक हैं.
पता: शिवराज छंगाणी
नत्थूसर गेट, बीकानेर- ३३४००५ (राज.)
शिवराज छंगाणी
श्रीमती आशा पाण्डे ओझा
एक कोशिश रौशनी की ओर’ काव्य-संग्रह कवयित्री श्रीमती आशा पांडे (ओझा) रचित है, जिसमें लगभग ९७ कविताएँ सम्मिलित हैं। इन कविताओं में अनुभूति के वैविध्यपूर्ण लम्हे स्पष्ट लक्षित हैं। महिला कवयित्री होने के नाते मन की उमंगे, जीवट, जाश के साथ-साथ सामाजिक विद्रूपदाओं, विसंगतियों एवं विवशताओं तथा मानव-मानव में भेद की भावनाओं पर खुलकर कलम चलाई है। एक ओर जहाँ उत्पीडन, शोषण, अनाचार और अत्याचार जैसी सामाजिक विसंगतियों के प्रति ध्यान आकृष्ट किया गया है तो दूसरी ओर मानवीय संवेदना, ममत्त्व, दया, कारुण्य भाव, जनहित तथा श्रृँगार-परक भावना एवं अपनत्व की क्षमता अत्यधिक प्रखर है। नारी मन की गहराई, उसका अन्तर्द्वन्द्व, नारी उत्पीडन, मान-अपमान में समान भावुक मन की उमंगे, संवेदनशीलता, सहिष्णुता आदि पर काव्य में अभिव्यक्ति दी गई है, जो कि वस्तुतः सुलझी हुई वैचारिकता की प्रतीक है। काव्य-संग्रह की कविताएँ अभिधेयात्मक एवं व्यंजनात्मक शक्तियों को लिए हुए है तो गीतों, ग़ज़लों एवं नज़्मो में रागात्मकता की प्रतीति होती है। समानता एवं असमानता की सामाजिक विसंगतियों पर कवयित्री खरा व्यंग्य प्रहार करती हुई कहती है-
वे सर पे मैला ढ़ोते हैं
हम मन में मैला ढ़ोते हैं
वो हमारा मैला ढ़ोते हैं
हम उनके प्रति मैला ढ़ोते हैं
 
कवयित्री सामाजिक-आर्थिक बदलाव के लिये जन-चेतना लाने का भरसक प्रयास अपनी रचनाओं के माध्यम से करती प्रतीत होती है। रचनाएँ जो मुखरित हैं उनमें प्रार्थना, माँ तुम, ऐसा स्वर्णिम सेवेरा होगा, वक्त एक नई कहानी का, कैसे सुनू बसंत की चाप, सवेरा ढूँढ लेना है आदि स्तुत्य है। गीतों, ग़ज़लों एवं नज़्मो में भावाभिव्यक्ति अत्यन्त गहराई लिए हुए है। ‘दुछत्ती सा मन’ कविता की पंक्तियाँ देखिए-

घर की दुछत्ती सा, निरन्तर अथाह
अनन्त दुःखों का बोझ ढोता है मन
फिर भी जिन्दगी करती है कोशिश
ड्राइंग रूम की तरह मुस्कुराने की
 
शब्द सामर्थ्य, भाव-सम्प्रेषण, संगीतात्मकता, लयात्मकता की दृष्टि से कविताएँ अत्युत्तम हैं। कवयित्री में नए आयाम स्पर्श करने की क्षमता है। लेखिका एवं प्रकाशक दोनो ही बधाई के पात्र हैं।
***

Posted in | 7 Comments

नासिरा शर्मा की कहानी- हथेली में पोखर

चनाकार परिचय
नाम- नासिरा शर्मा
जन्म- २२ अगस्त (इलाहबाद)
सृजनकर्म
उपन्यास: सात नदियाँ एक समंदर, शाल्मली, ठीकरे की मंगनी, ज़िन्दा मुहावरे, अक्षयवट, कुइयाँजान, जीरो रोड.
कहानी संग्रह: शामी काग़ज़, पत्थर गली, इब्ने मरियम, संगसार, सबीना के चालीस चोर, ख़ुदा की वापसी, दूसरा ताज़महल, इंसानी नस्ल, बुतख़ाना.
नाटक: पत्थर गली, दहलीज़, सबीना के चालीस चोर, इब्ने मरियम, प्लेटफ़ॉर्म न. ७, अपनी कोख. फ्रांस और जर्मनी टी.वी. पर ईरानी बाल युद्धबंदियों पर बनी फिल्मो में सहयोग.
संपादन-संयोजन: क्षितिज के पर- राजस्थान के लेखकों का संग्रह, सारिका एवं 'पुनश्च' ईरानी क्रांति विशेषांक, वर्तमान साहित्य का महिला कथा विशेषांक.
अनुवाद: इकोज़आफ इरानियन रेवुलूसन प्रोटेस्ट पोयट्री, बर्निंग पायर, शाहनामा फ़िरदौसी, काली छोटी मछली, किस्सा जाम का, गुलिस्ताने साडी,
अन्य पुस्तकें: राष्ट्र और मुसलमान, औरत के लिए औरत (लेख), किताब के बहाने (आलोचना), जहां फव्वारे लहू रोते हैं (रितोपर्जन), अफ़गिस्तान:बुज़कशी का मैदान, मरज़ीना का देश:इराक़ (अध्ययन).
बाल साहित्य: बदलू, दिल्लू दीमक, भूतों का मेकडोनल (उपन्यास), सेब का बाग़, परी का शहर, शहर में खजूर, वर का चुनाव, हँसी का दर्द, डूबता पहाड़, ईरान की रोचक कहानियाँ, वियतनाम की लोककथा, गुल्लू (कहानी).
नवसाक्षरों के लिए कहानी पुस्तक: पढ़ने का हक़, सच्ची सहेली, एक थी सुल्ताना, गिल्लो बी, धन्यवाद-धन्यवाद.
सीरियल-टेलीफिल्म: तड़प, सेमल का दरख़्त, काली मोहिनी, आया बसंत सखी, माँ, बावली-ताबूत (टेलीफिल्म), शाल्मली, वापसी, दो बहने, यह मोहब्बत (सीरियल).
हथेली में पोखर

यहाँ से वहाँ तक मकानों के जंगल फैले हुए थे। जो घने सायेदार पुराने दरख्त थे, वे कॉलोनी के नक्शे ने पहले ही काटकर खत्म कर दिए थे। हल्की धूप के बादल घरों को घेरे रहते, जिसमें रेत और सीमेंट के कण मिले होते। बाजार दूर था। मजदूरों की जरूरत के मुताबिक जो चाय की झुग्गी ओर इकलौता ढाबा वजूद में आया था, उसका अब कोई निशान बाकी नहीं रह गया था। लोगों ने बसना शुरू कर दिया था। इस भीड में कैलाश भी था, जो इस खयाल से उबर ही नहीं पा रहा था कि वह एक अदद मकान का मालिक बन गया है। कहने को दो छोटे-छोटे कमरे थे, मगर उस पर दाखिल और काबिज तो कैलाश ही था। उसकी हर खुशी उसकी पत्नी रीता और दोनो छोटे बच्चों में भी नजर आती थी।

किराए के मकान में रहते-रहते वे दोनो ऊब चुके थे। बार-बार मकान का बदलना, फिर कभी पानी नहीं, तो कभी बिजली नहीं, तो कभी मकान मालिक से बहस, तो कभी पडौसी से मनमुटाव। अब अपना घर था। जैसे चाहो रहो- न कोई रोकने वाला था, न कोई टोकने वाला कि यह मत करो, वह मत करो। पहली रात थोडा-बहुत सामान जमाकर दोनो घोडे बेचकर सोए। सुबह उठे तो कैलाश ने रीता से कहा ‘‘क्यों, अब तो कोई शिकायत नहीं है?’’

‘‘बस बाजार दूर है। सब्जी-भाजी तो आपको लानी पडगी।’’

‘‘उसकी चिन्ता मत करो, ऑफिस से लौटते हुए जरूरत का सारा सामान मैं ले आया करूँगा।’’ कैलाश ने मगन होकर कहा।

‘‘वह तो ठीक है....मगर जब तक तुम लौटोगे तब तक बच्चों के सोने का समय हो जाएगा।’’ रीता ने चिंता से कहा।

‘‘फ्रिज तब तक ठीक हो जाएगा जब तक मेरी छुट्टी खत्म होगी।’’ कैलाश ने जल्दी से कहा और बाथरूम की तरफ बढा। वह अपना मूड खराब नहीं करना चाह रहा था। शावर खोलते ही जलप्रपात की तरह पानी उसके सिर पर गिरा। आज वह देर तक नहाता रहा। उसे अपनी अक्लमंदी पर खुशी महसूस हो रही थी कि उसने इस दूर बियाबान में ही सही, मकान लेकर अच्छा किया। आबादी के बसते ही बाजार भी बस जाता है। फेरीवाले तो कल दिखे थे। जिस तरह शहर फैल रहा है, उसके देखते हुए कोई हिस्सा अभी तक वीरान नहीं है। इधर कॉलोनी बनी उधर रौनक शुरू हो गई। बस स्टॉप बनते ही दूरियाँ कम हो जाएंगी।

धीरे-धीरे सारे घर बस गए थे। चहल-पहल ने माहौल बदल दिया था। मिलना-मिलाना भी शुरू हो गया और कुछ दूरअंदेश लोगों ने मिलकर एक कमेटी भी बना ली थी, ताकि बाकी बची सहूलियतों की प्राप्ति में आसानी हो। दीवाली में दीयों से सजे घरों में सबको अलग तरह की चमक नजर आ रही थी। नए घर में पहली दीवाली पडी थी, इसलिये कुछ ज्यादा ही ध्यान खरीदारी और मेहमानदारी पर था। कैलाश ने खिडकी-दरवाजे के परदों के साथ पुराना सोफा भी बदल दिया था। धनतेरस में कहाँ एक-दो बर्तन खरीदता था। इस बार किचन भी नए बर्तनों में चमचमा उठा था। पटाखे भी दिल खोलकर छुडाए गए। दीवाली कुछ इस तरह मनी थी कि उसकी याद कई महीनों तक ख़ुशी देती रही।

गर्मी की शुरूआत और जाडे की विदाई से मौसम तो बदला ही, साथ ही स्थिति भी बदल गई। कैलाश के अन्दर नाचती खुशी चिन्ता में बदलने लगी थी। शहर में पानी कैलाश के मन में धुकधुकी-सी लगी रहती कि मोटी धारवाले नल कहीं धोखा न दे जाएँ। मई माह शुरू हो गया था। कॉलोनी में दो दर्जन पेडों को बारी-बारी से पानी मिल रहा था। उन्होंने अपना कद भी बढाया था। धूल भी उडना बन्द हुई थी। रोज कहीं-न-कहीं कोई छिडकाव कर सूखी मिट्टी का भुरभुरापन खत्म कर रहा था। कुछ ने घास लगाकर रॉक गार्डन बनाने की भी कोशिश की थी। जिसके पास जो था, उसी में वह बेहतर से बेहतर तरीके से रहने की कोशिश कर रहा था। कैलाश के घर के सामने भी गमलों की कतारें नजर आने लगी थीं, जिसमें रोज काजल और केसर पानी देते और बडी देर तक नन्हे पौधों में नई पत्तियों के फुटाव को तलाश करते हुए रंग-बिरंगे फूलों की कल्पना करते।

‘‘मैं पहला फूल अपनी मैम को दूँगा।’’ काजल कहता।

‘‘कैसे दोगे?’’ केसर आँखें मटकाती।

‘‘क्यों? तोडकर दूँगा।’’ काजल उसकी अज्ञानता पर हँसता।

‘‘वह तो पहले ही पापा तोड लेंगे।’’ केसर ने सिर हिलाते हुए कहा।

‘‘यह हमारे गमले हैं। पापा कहते हैं कि इनकी देखभाल तुम्हें करनी है, सूखने न पाएँ।’’ काजल बोल उठा।

‘‘पापा मम्मी से कह रहे थे कि जब हमारे घर में पहला फूल खिलेगा, तो मैं उसे तुम्हारे बालों में लगाऊँगा। मैंने खुद पापा को कहते सुना है।’’ केसर ने काजल को बताया। यह सुनकर काजल उदास हो गया। उसका उतरा चेहरा देखकर केसर भी उदास हो गई। दोनों कुछ देर गमलों के पास चुपचाप बैठे रहे। फिर काजल ने धीरे से कहा-

‘‘यह भी तो हो सकता है केसर कि सारे गमलों में साथ-साथ फूल खिलें?’’

‘‘हो सकता है। ऐसा हो सकता है, भैया!’’ केसर ने कहा।

दोनों के चहरे पर खुशी तैर गई। एक-दूसरे की तरफ देख दोनो हँस पडे।

यह खुशी भरी हँसी जो सभी के चेहरों पर नाचती रहती थी, जून के आते ही झुँझलाहट और बेबसी में बदल गई। पानी की लाईन कट गई थी। मेन टंकी सूखी पडी थी। फूल खिलना तो दूर, पौधे ही मुरझाने लगे थे। कॉलोनी कमेटी भी क्या कर सकती थी? जब पूरा शहर इसकी चपेट में था। अब एक ही चारा रह गया था कि पानी के टैंक मँगाए जाएँ और कतरा-कतरा पानी नाप-तौलकर खर्च किया जाए। मेल-मिलाप की जो बयार इस नए मौहल्ले में उल्लास बनकर बही थी, उसने अपना रूप बदल लिया था। एक चिडचिडाहट-सी सबके दिमागों पर हावी रहती और मन ही मन अपने को कोसते कि सस्ते के चलते इस बियाबान में आकर क्यों बसे? कॉन्ट्रेक्टर अपना दिया वादा छह माह तक पूरा करके अब स्थिति के सामने लाजवाब हो गया था। उसके बस में कुछ नहीं रह गया था।

‘‘इतना महँगा पानी हम कब तक खरीद पाएँगे?’’ रीता परेशान होकर सोचती।

‘‘कहीं ये मकान बेचना न पड जाए।’’ कैलाश चिन्ता में डूब जाता।

‘‘बच्चों के भविष्य का क्या होगा?’’ रीता बजट देखती।

‘‘सेविंग एकाउंट में पिछले दो माह से रुपये डाले नहीं। अगर यही हाल रहा खर्चे का तो? पेट्रोल का, पानी का, खाने की चीजों का... सभी का खर्चा बढ गया है। अपना मकान पाकर हमें क्या मिला? किससे जाकर शिकायत करें?’’ कैलाश पास-बुक को खोलता, बन्द करता परेशान हो सोचता।

कॉलोनी एकबार फिर पहले वाली स्थिति में लौट आई। पेड-पौधे सूख गए। रॉक गार्डन और नन्हे-नन्हे घास के चबूतरेनुमा लॉन कहीं खो गए। गरम तेज धूप जब अपना आँचल फैलाती, तो लू के धूलभरे भक्कड पूरी कॉलोनी में चीखते फिरते। अब न कोई इस डर से अतिथि सत्कार का मन करता, न कोई किसी के घर जाता कि बेकार में पानी खर्च होगा, चाहे चाय बने या शर्बत, जूठे बर्तन तो धोने पडेंगे और इस चक्कर में आधा बाल्टी पानी खर्च हो जाएगा। पानी घटा तो संवेदना भी जैसे शिथिल पडने लगी।

गर्मी अपने भरपूर जोबन पर थी। बिजली के न रहने पर दो छोटे कमरे तन्दूर बन दहक उठते थे। करवट बदलते, उठकर बार-बार पानी पीने से भी न पसीने की धार रुकती, न नींद आती। काजल अधौरियों से लाल पीठ की चुनचुनाहट से तंग आकर नहाना चाहता, तो रीता उसे बहलाती, पाउडर डाल पीठ सहलाती और धीरे से कान में कहती-

‘‘दो ही बाल्टी पानी है। सुबह पापा को ऑफिस जाना है... मैं पंखा झल तो रही हूँ।’’

उधर केसर हठ करती कि ठंडी पेप्सी नहीं, तो ठंडा पानी तो दो। उसे तरह-तरह का प्रलोभन दे रीता मनाती और कभी-कभी आँखों से गिरते गरम पानी को आँचल से पौंछ लेती। वह गुस्सा दिखाए भी तो किस पर? एक उन्हीं का परिवार तो यह कष्ट झेल नहीं रहा है, पूरे डेढ सौ परिवार इस यातना से गुजर रहे हैं। कैलाश गई रात तक मनसूबे बनाता, फिर इस खयाल में डूबने लगता कि वह कुएँ की जगत पर बैठा ठंडे-ठंडे पानी को बदन पर उडेल रहा है या सिरकंडों से घिरे तालाब में तैर रहा है। इस फैंटेसी का सृजन कर पसीने से डूबे कैलाश को देर रात में नींद आ ही जाती। सारे दिन का थका और ताप बदन घर की भट्टी में भुनता जरूर, मगर यही पीडा उसे नींद में डूबने में मदद भी करती।

गर्मी कम हुई।

काजल अपनी मैम को फूल नहीं दे पाया।

कैलाश रीता के जूडे में फूल नहीं लगा पाया।

रीता के चेहरे का कँवल नहीं खिल पाया।

संवेदना हसरत बनते-बनते आखिर शुष्क पडने लगी और सारी इच्छाएँ यथार्थ से टकरराकर चूर-चूर हो गईं। टूटे गमलों को हटा दिया और उसकी जगह सदाबहार कागज के फूलों का गुच्छा मंगल बाजार से खरीदकर रीता ने गुलदानों में खोंस दिया। रसेदार सब्जी बनना लगभग बन्द हो गई।

‘‘मम्मी, इस फ्रॉक से बदबू आ रही है, दूसरी दो।’’ केसर मचलतीं

‘‘कहाँ बदबू आ रही है? जल्दी से पहनो, तो मैं हलवा बना दूँ।’’ रीता की रिश्वत काम आ जाती और रोज धुले कपडे पहनने वाली केसर दो दिन की पहनी फ्रॉक को फिर से पहनने पर राजी हो जाती। उसके नथनों से पसीने की गंध की जगह देसी घी में भुने सूजी के हलवे की सुगन्ध भर जाती।

जिन्दगी बडी किफायत से आगे बढ रही थी। रोज का मोर्चा था जिस पर डटे हुए युद्धरत रहना था। अन्दर जमा धैर्य-शक्ति को बडी कंजूसी से खर्च कर रहा था। कैलाश के लिए दफ्तर-घर दोनो चुनौतियाँ दे रहे थे। नए अफसर ने आकर नीति बदली, तो पुराने काम करने वालों को अपनी आदतें और काम करने का ढंग बदलना पडा। कैलाश दफ्तर में समझौतों की चक्करघिन्नी बना घर लौटता तो वही मशक्कत रीता को करते देखता। रीता का चेहरा अब मुस्कुराना भूल चुका था। उसकी आँखों के दोनो तरफ सिलवटें पडने लगी थीं। बाल भी रूखे-रूखे लगते और आँखें थकी-थकी सी, जैसे बरसों से सोई न हों।

इन दो वर्षों में हमने उम्र के दस वर्ष पार कर लिए हों जैसे...यही रफ्तार रही तो...कैलाश परेशान हो माथा रगडता। ऑफस से लिया लोन न नौकरी बदलने देता, न मकान छोडने देता। वह बुरी तरह फँस चुका था। किराए के मकान में सारे कष्टों के बाद हम चारों उडान तो भरते थे। दुःख-सुख में विश्वास बना रहता था। वह विश्वास कहीं पर हिल गया है। वर्तमान देख भविष्य की चिन्ता हरदम सवार रहती है कि कल क्या होगा? इन बच्चों का क्या होगा? क्या हमारे बनाए प्लान ओर हमारे देखे सपने पर इनका भविष्य निर्माण होगा या फिर हमारी योजना कब हमारी कोशिशों से अन्त तक पहुँच पाती है, फिर इनके लिए जीवन का एक स्वरूप बनाना रेत पर बुनियाद खडी करने जैसा नहीं है क्या?

‘‘जून के अन्तिम सप्ताह तक मानसून के आने की आशा है।’’ समाचार में दी गई सूचना कैलाश के मन में आशा के दीप नहीं जला पाई। शायद इसलिए भी कि ऊपर से बरसा पानी उसकी जरूरतों को पूरा नहीं कर सकता। भले ही वह खेत व बागानों पर बरसकर खाली सूखी नदी-ताल को भर सकता है, मगर मरे पौधों में जीवन नहीं भर सकता। नल में पानी की मोटी धार बनकर नहीं गिर सकता है। यहाँ कपडा पहने-पहने बारिश के पानी में नहाने का मजा तक कोई नहीं ले सकता, फिर हमारे किस काम की बारिश? बारिश और फिर उमस! कैलाश की खिसियाहट कल्पना की उडान पर चढी कटी पतंग बन खुले आसमान पर इधर-से-उधर डोल रही थी। निराशा ने उसे घेर रखा था। उसे अपनी किराए की बरसाती याद आ रही थी, जहाँ खिली धूप और चाँदनी थी। अगर गरम हवा के थपेडे थे, तो बरसात की ठंडी हवा भी, मगर इस घुटे घर में सब-कुछ राशन से मिलता है। बिजली चली जाती है, तो खिडकी भी ओर बालकनी भी कोई राहत नहीं दे पाती है। आखिर कहाँ फँस गया वह?

मौहल्ला परेशानियों से ऐसा घिरा कि आपसी संबंध तो दूर, आँखों की शर्म भी जाती रही। न दोस्ती बढेगी, न बाल्टी पानी की माँग होगी। नाली बन्द हो जाए या फिर सीढी धोने के लिये जमादार पानी माँगता, तो सब आनाकानी कर जाते थे। धूल के साथ एक बदबू भी हवा में घुलने लगी थी, जिससे बच्चे भी बीमार जल्दी-जल्दी पडने लगे थे। यह एक नया खर्च सामने आन खडा हुआ था। रीता का हौंसला चुक गया था, मगर वह कुछ बोल नहीं सकती थी। मजबूरी और बेबसी ने उसके होंठों पर ताला डाल दिया था। कभी-कभार कैलाश को ताकती तो उसका चेहरा देख पहले से ज्यादा अधमरी हो जाती।

‘‘गाँव से फोन आया है- चाचा नहीं रहे।’’ दोपहर को एकाएक कैलाश ने घर पहुँचकर सूचना दी।

‘‘यह तो बुरा हुआ!’’ रीता उदास हो बोली।

‘‘मेरी अटैची ठीक कर दो, मुझे अभी एक घंटे बाद निकलना होगा।’’ कैलाश इतना कहकर पसीने से भीगे कपडे बदलने लगा। बालटी का पानी गरम था। बिजली न होने के कारण पीने का पानी भी ठंडा न था। अन्दर-बाहर की गरमी को झेलते हुए कैलाश ने गाँव की राह ली। उसी गाँव की, जिससे भागकर वह इस बडे शहर में आया था।

गाँव पहुँच कैलाश उदास हो गया। यह उदासी गहरी और पर्तदार थी। चाचा के बाद पुरानी पीढी का अध्याय समाप्त हो गया था। घर-परिवार में वह अब सबसे बडा था। चचा तहसीलदार थे। रिटायरमेंट के बाद गाँव आकर बस गए थे। पिछले दस वर्षों में उन्होंने कच्चे घर को पक्का करवा बहुत आरामदायक बना लिया था। बिजली, कूलर, फोन- सारी सुविधाओं के साथ नल-कुँआ और हैंडपंप भी मौजूद थे। पानी की इफरात थी। दूसरी ओर, उसके घर का हिस्सा टूटकर मिट्टी का ढेर हो चुका था। सामने वाला तालाब भी सूख चुका था, जहाँ गाँव के लोग मवेशी बाँधते या फिर कूडा डालते थे। चचा की दी गई कई बार की चेतावनी कि घर बिसमार हो रहा है, यदि खुद न देखो, तो हमसे कहो कि पुरखों की ड्योढी सँभाल लें, मगर वह गुमसुम बना रहा। पिताजी व चचा के बीच संबंध कडवे थे। पिता ने मरते-मरते ये शब्द कहे थे कि चचा की आँख हमारे हिस्से पर है। आज कैलाश को लग रहा था कि उसी वाक्य का बहाना बना वह शहर में अपने ठौर-ठिकाने की तलाश में था, मगर आज क्या हुआ? चचा चले गए। कैलाश उन्हीं के हिस्से में ठहरा हुआ है। अपने घर का हाल देख वह व्यथा में डूबने लगा। वहाँ केवल मलबे का ढेर था।

‘‘भैया, हमतो अपने-अपने घर हैं। अब यह सब कौन संभालेगा?’’ चचा की बडी बेटी ने बाप के घर से चलते हुए कैलाश के सीने पर सिर रखकर सुबकते हुए कहा।

‘‘सब हो जाएगा, कनु... रो मत।’’ कैलाश ने भरे गले से कहा।

तीन दिन बाद घर खाली हो गया। दोनों छोटी बहने फिर आने को कहकर चली गईं। कैलाश की छुट्टी भी खत्म हो गई थी, मगर तेरहवीं किए बिना उसका गाँव से निकलना कठिन लग रहा था। उधर काजल बीमार पड गया था। कैलाश भरी धूप में नीम के घने पेड के नीचे लेटा अतीत के झूले में झूल रहा था। कुँए की जगत पर आस-पास की औरतें पानी भर रही थीं। उनकी हँसी व खनकती चूडयों की आवाज भी उसके कानों में गूँज रही थी। उसका मन शहर और गाँव के बीच भटक रहा था। आज सुबह से बिजली नहीं है, नल सूखे हैं। सबने घडे कुँए से भर लिए...चिन्ता की जैसे कोई बात नहीं। कैलाश व्याकुल सा चारपाई से उठा और सामने फैले खेत की तरफ देखते हुए सोचने लगा- ‘‘आखिर गलती कहाँ पर हुई है हमसे?’’

‘‘अपनी जडों से नाता न तोडो, भैयाजी!’’ कहीं से चची की आवाज हवा में सरसराती कैलाश के कानों में पहुंची।

‘‘कच्चा घर लेकर क्या बैठना! समय आगे बढ चुका है। तालाब भी पाटकर समाप्त करो, नल खिंच गए है। अब मच्छरों को नेवता देकर क्या करेंगे? रहा सवाल सिंघाडे का, वह कौन खाता है?’’ यह आवाज कैलाश के पिता की थी।

‘‘जैसी आपकी मरजी।’’ चचा की आवाज गूँजी थी।

‘‘तुम्हारी मजबूरी है कि तुम लडकियों के बाप हो, ब्याह दिया दोनों को मगर; अपना तो बेटा है। जहाँ वह वहाँ हम। शहर की जिन्दगी का सुख तुम क्या जानो!’’ पिता इतना कहकर हँस पडे। उनके स्वर में ऐसा कुछ था जो चचा को गहरे आहत कर गया था। कैलाश बडी देर तक टहलता पुरानी बातों को याद करता रहा।

‘‘अकेले आए हो का, अच्छा होता कि बहू भी साथ होती!’’ पास से गुजरते हुए किसी ने कहा।

‘‘समय नहीं था। जैसे ही खबर मिली, फौरन दौडे आया।’’ कैलाश बोला।

‘‘आम लदा पडा है। बच्चे खाते!’’ कहता वह आदमी आगे बढ गया; मगर कैलाश को पूरी तरह झिंझोड गया। उसकी आँखों के सामने काजल और केसर के मुरझाए चेहरे घूम गए। मन व्याकुल हो उठा। जाने वहाँ पानी का क्या हाल हो? मानसून का भी कहीं पता नहीं है... यहाँ गाँव में अब वह सब-कुछ है, जो उसके गाँव छोडते समय नहीं था। अस्पताल, पी.सी.ओ., सरकारी कार्यालय, पेट्रोल पम्प, बडा बाजार...आखिर यह सब हुआ कैसे? उसने अतीत की परतों को उघाडना शुरू किया।

चचा लौटे तो... हाँ, शायद यही इस गाँव के विकास का सबसे बडा कारण था कि चचा गाँव लौटे। उन्हीं के साथ दो-तीन लोग और रिटायर होकर गाँव लौटे। उनके पास शहर से कमाए पैसे थे, अनुभव था। उन्होंने अपने घर-परिवार को अपने मुताबिक बनाने की कोशिश में लोगों के दिलों में बदलाव के बीज बोए। उसी के साथ सरकारी योजनाओं को दौड-भागकर अपने गाँव तक लाए। लोगों को लाभ पहुँचा। उनका जीवन स्तर बदला।

‘‘मैंने या पिताजी ने क्या किया? गाँव से नाता तोड उस शहर से संबंध जोडा जो कभी अपना नहीं हो सकता है। भौतिक सुख की इस दौड में हम विकास की बातें करते रहे। उस जगह के लिए हम अपने को होम करते रहे जिसको हमारी परवाह है ही नहीं। उन पक्की दीवारों में संवेदना की थरथराहट मर चुकी है। एक बनावटी जिन्दगी हमने अपना ली है। उससे निकलने की राह...? अभी पूरी तरह गुम नहीं हुई है।’’ कैलाश का टूटा हौंसला जैसे आशा की पहली बूँद पडते ही हरा हो गया। उसने ऊपर आसमान को ताका। नीला छत्तुर फैला था। सुरमुई बादल तो दूर, सफेद बादलों का भी कहीं पता नहीं था।

‘‘मेघ पानी दे,’’ बच्चों की टोली मिट्टी पोते नंगे बदन सामने से गुजर गई।

‘‘पानी न बरसा तो फसल का क्या होगा?’’ एक और चिन्ता उभरी।

कैलाश अपने टूटे घर के दालान में फूँस के छप्पर के नीचे बैठा सोच रहा था कि क्या गलती सुधारी जा सकती है? ऊपरवाला पानी जब भी बरसाए, उसके संजोने की व्यवस्था मुझे कर लेनी चाहिये। सुबह होते ही मैं तालाब की सफाई करवाऊँगा। कैसा अंधेर है कि गाँव में कोई पोखर ही नहीं बचा। पहले लाल-सफेद कमल खिलते, जलकुंभी के बीच हम तैरते और सिंघाडे का मजा लेते। वे दोनो पडे ताल रेल की पटरी के पास वाले पटवा दिए गए ओर स्टेशन बन गया। वह भी जरूरी था, मगर यह पोखर तो फिर से जिन्दा किया जा सकता है। कैलाश के मन में उथल-पुथल थी। आँखों में बेचैनी और होंठों पर कंपन। वह सूरज के निकलने का बेचैनी से इंतजार करने लगा। उसकी आँखें झपक गईं। कैलोश ने देखा-

पोखर पक्का बन गया था, जिसके किनारे वह रीता के साथ खडा था, जिसके तीन तरफ बाँस के ऊँचे वृक्ष हवा में झूम रहे थे। आकाश में मूसलाधार बारिश हो रही थी, जो पोखर में गिरकर बताशे फोड रही थी। घर के कच्चे आँगन में चुसनी आम से भरी बालटी के सामने काजल व केसर आम चूस रहे थे। घर भरा है। माँ-पिताजी, चाचा-चाची, दादा-दादी और उसकी दोनो बहनें...अतीत और वर्तमान गड्डमड्ड हो चुका था। वह एक साथ बच्चा और मर्द दोनों की शक्ल में नजर आ रहा था। गाँव का वह घर कभी शहर जैसा लगता और शहर का घर कभी गाँव जैसा। सुख की अनुभूति से कैलाश के रोम-रोम में आराम की कैफियत भरदी थी। उसके हाथों में फैलाव अब दोनों छोरों को छू रहे थे।


-समाप्त
-नासिरा शर्मा
संपर्क: डी-३७/७५४, छत्तरपुर हिल्स, नई दिल्ली- 110030

Posted in | 8 Comments

शाहिद मिर्ज़ा 'शाहिद' की ग़ज़ल

शाहिद मिर्ज़ा 'शाहिद'
 ईद मुबारक !


समस्त भाइयों और दोस्तों को ईद मुबारक ! परवरदिगार आपको और आपके परिवार को हर मुसीबत से बचाए रखे, सदा बरक़त दे, अपनी रहमतों से नवाज़े. आज इस पाक मौके प़र आप सभी के समक्ष प्रस्तुत है जनाब शाहिद मिर्ज़ा 'शाहिद' की एक ग़ज़ल |





हर घर के आंगन में लेकर आती है खुशहाली ईद
महकाती है दिल का हर गुल, हर पत्ता, हर डाली ईद


रस्म-तकल्लुफ बनकर रह गई अब तो यारो खाली ईद
याद बहुत आती है मुझको अपने बचपन वाली ईद


चांद निराला होता है अपना, ए यार निराली ईद
एक नज़र बस राह में उनको, देखा, और मना ली ईद


खुशियां मिलकर साथ मनाने के त्यौहार बहाने हैं,
सबका है पैगाम मुहब्बत, बैशाखी, दीवाली, ईद


रूठ गये जो हमसे ''शाहिद'' हमने उनकी यादों से
उम्मीदों का दीप जलाया और खुशियों में ढाली ईद
***

शाहिद मिर्ज़ा 'शाहिद'

Posted in | 11 Comments

मालचंद तिवाडी की चार कविताएँ

रचनाकार पिरचयः


नामः मालचन्द तिवाडी
जन्मः १९ मार्च, १९५८
स्थानः बीकानेर
शिक्षाः एम.ए. (हिन्दी साहित्य)
लेखनः हिन्दी और राजस्थानी में समान रूप से (गद्य-पद्य)
प्रकाशनः हिन्दी-
सभी कहानी संग्रह- जालियाँ और झरोखे, पानीदार तथा अन्य कहानियाँ, सुकान्त के सपनों में और त्राण
उपन्यास- पर्यायवाची
राजस्थानी उपन्यास- भोळावण
राजस्थानी कहानी संग्रह- सेलिब्रेशन और धडन्द
राजस्थानी कविता संग्रह- उतर्यो है आभौ
अनुवाद- एच.जी. वेल्स की कालजयी विज्ञान कथा ‘टाईम मशीन’ का ‘काल की कल’ के नाम से हिन्दी अनुवाद
पुरस्कार- साहित्य अकादमी, सूर्यमल मीसण शिखर पुरस्कार, लखोटिया पुरस्कार, गणेशीलाल व्यास पुरस्कार ‘उस्ताद’ पद्य पुरस्कार समेत अनेक पुरस्कारों से सम्मानित
साहित्यिक भ्रमण- भारत सरकार की सांस्कृतिक आदान-प्रदान योजनार्त्गत दस प्रतिनिधि भारतीय लेखकों के मण्डल के अंगरूप सितम्बर, २००७ में चीन व मलेशिया की यात्रा कर चुके हैं
पूर्व में आप साहितय अकादमी नई दिल्ली के सौजन्य से ‘इंडियन इन्स्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडीज, शिमला से संबद्ध ‘राईटर्स इन रेजीडेंस’ रहे हैं
१.
सपने की खरोंचे



सपना टूटा

निशान छोड़ गया !

सपने में हारा हुवा धन

फिर से लौट आया

पर सपने में झेला गया दुःख?

वह कहीं नहीं गया !




२.

आमने-सामने


इतना बुरा जीवन जीया

नींद कैसे आई?

नींद नहीं आई


इतना बुरा जीवन

जी लिया कैसे?




३.
गर फिरदौस




नैमिषारण्य

कि

दंडकारण्य

क्या था मेरे लिए कश्मीर?


मैं कैसे बनाता पंचवटी


करने को उसे पुनः पावन !





इस पुराण-भूमि पर


जा सकती थी केवल कल्पना मेरी


मैं नहीं !





मैं चिकोटी काटता हूँ


अपनी ही देह पर


करने को विश्वास


कि मैं ही हूँ कश्मीर में


जीता-जागता और सालिम !





एक जून हिन्दू विश्वास


कि काशी में मरे को मिलता है मोक्ष


कबीर ने झुठलाया जिसे


मगहर में तजकर प्राण !





मैं झुठलाने नहीं


जीते जी अपने


सच करने आया हूँ यह कौल


कि ऐ कश्मीर !


ग़र फिरदौस बरुए जमीं अस्त


हमी अस्त हमी अस्त हमी अस्त !





४.
तुम्हारी सौंपी यह दुनिया


मैं स्पर्श से बचता हूँ


भुरने न लग जाए


दीमक चाटे काठ की मानिंद


यह दुनिया !





मैं अंगुली नहीं मथता


सुराख ना हो जाए कहीं


जर्जर पवन की छाती में !




मैं पुकारता नहीं तुम्हारा नाम


अनसुनी पुकार सुनकर


ढेर न हो जाएँ सृष्टि के सारे शब्द


टूटे खिलौनों की शक्ल में !





कैसे बयान करूँ ?


किस एहतियात से संजोये बैठा हूँ


तुम्हारे बगैर


तुम्हारी सौंपी यह दुनिया !


***

स्थायी पता- प्रहेलिका, सोनगिरि कुआँ, बीकानेर- ३३४००५

Posted in | 10 Comments

अविनाश वाचस्पति का व्यंग्य- डेंगू और फ्लू का कॉमनगेम

अविनाश वाचस्पति
डेंगू के डंक से तीखा, कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स की महंगाई का डंक, पब्लिक को मच्‍छर के डंक के बारे में जानकारी है, वे डेंगू से डरे-सिमटे हैं। जब एम्‍स के डॉक्‍टर-पुत्र इससे बच नहीं पा रहे और दम तोड़ रहे हैं तो हम और आप यानि पाठक, संपादक और लेखक, मच्‍छरों का क्‍या बिगाड़ लेंगे और क्‍या बिगाड़ लेंगे महंगाई का, जिसने सदा की तरह अपनी नंगाई से सबको त्रस्‍त कर रखा है। जिस तरह स्‍वाइन फ्लू, गेम्‍स फ्लू पर हावी होता जा रहा है। महसूस कीजिए कि खेलों के कारण किस-किसको, कहां-कहां पर, कैसे कैसे तीखे-मीठे डंक लग रहे हैं, कौन कहां पर फ्लू का पपलू बन गया है।  डेंगू का डंक मारने के लिए सिर्फ मच्‍छर ऑथराइज हैं, फ्लू फैलाने के लिए जानवर। जबकि खेलों के डंक-फ्लू के लिए, न जाने कितने मच्‍छर-जानवर रूप अदल-बदल कर चारों तरफ मौजूद हैं, पर पब्लिक की क्‍या मजाल की उनसे बचने में सफल हो सके। टैक्‍स और देश के विकास के नाम पर जो डंक रोजाना मारे जा रहे हैं, उन्‍हें पहचानना सरल नहीं है, गेम्‍स फ्लू को सूंघ-पहचान कर भी इससे बचना संभव नहीं रहा।  
कॉमनमैन टैक्‍स से बचने के लिए महंगाई से जोरा-जोरी कर रहा है, सदा से चोरी कर रहा है।  टैक्‍स रूपी डंक को डंका बजाने से कोई नहीं रोक सकता। इस डंक की लंका को भला कौन जलाएगा ? डंक की यह लंका सोने की नहीं है, पर पब्लिक को सोने नहीं दे रही है। जरा नींद आने को होती है और मालूम होता है कि पेट्रोल के रेट फिर से बढ़ने वाले हैं। सब्जियों के रेट चढ़ने वाले हैं और तो ओर महंगाई तक पहुंचने के सारे गेट खोल दिए गए हैं। यहां वेट भी नहीं की जा रही हे कि गेम्‍स शुरू होने तक तो इंतजार किया जाता, महंगाई भर रही है सर्राटा और बैंक खाते फर्राटे से भरते जा रहे हैं। जिनके खाते भर रहे हैं, वे रिरिया रहे हैं, मानो कुछ जानते नहीं हैं।  डंक का राजा-रंक पर बराबर का असर होता है, यह अब मिथक बन चुका है। राजा बचे रहते हैं, मस्‍त रहते हैं और प्रजा त्रस्‍त। डंक गरीब को आहत करता है, अमीर को नहीं। डंक का डंका डंके की चोट पर बज रहा है। अब डंके की चोट पर गेम्‍स कराए जा रहे हैं। बाद में घपलों-घोटालों की जांच कराकर सब टालमटोल कर दिया जाएगा। डंक आज ड्रंकन किए दे रहा है। गेम्‍स का नशा इस कदर छाया हुआ है कि सरकार का प्रत्‍येक कारिंदा और खुद सरकार झूमती नजर आ रही है। जंक फूड आमाशय में जंग लगा रहा है।  युवा यही खा-भोग रहे हैं, कितनी ही तरह के डंक रोज दर्द देकर समाज की भयानक दुर्गति कर रहे हैं। पब्लिक बेबस होकर चौकस बीमारियों की जकड़ में आकर कसमसा भी नहीं पा रही है और सब देखने-भोगने के लिए अभिशप्‍त है।
***
साभार- DLA

Posted in | 5 Comments

कैलाश चंद चौहान की कविता- मैं निर्जीव कागज नहीं

रचनाकार परिचय

नाम- कैलाश चंद चौहान,
पिता का नाम- स्व.श्री इतवारी लाल
जन्म स्थान- दिल्ली
पता- 12/224,एम.सी.डी. फ्लैट, सैक्टर-20, रोहिणी, दिल्ली-110086
kailashchandchauhan@yahoo.co.in



मैं
निर्जीव कागज नहीं
जो चाहा लिखा
जैसे चाहा
इस्तेमाल किया
कागज की अपनी
अभिव्यक्ति नहीं
सब तुम्हारी भाषा बोलता है
उस पर कुछ ठीक से
अंकित न हुआ
फाड़ कर फैंक दिया


मैं निर्जीव कागज नहीं
मैं जीती जागती आज की
नारी हूं
मेरी भी अपनी
अभिव्यक्ति है
जिसे मैं पंख देना
चाहती हूं


मैं निर्जीव कागज नहीं.....
मैं भी एक इंसान हूं
जिसमें लहु गर्म
दौड़ता है
गलत बातों से जिसके
मस्तिष्क की नसें
फटने को होतीं हैं
और कुछ सोचने
और करने को
मजबूर करती हैं


मैं निर्जीव कागज नहीं.......
मैं भी एक जीता जागता
चलता फिरता जीव हूं
मैं दुनिया को
तुम्हारे नेत्रों से क्यों देखू
जब प्रकृति ने मुझे भी
नेत्र दिये हैं
जिनसे देखने का
मेरे पास
अलग
नजरिया भी है


मैं निर्जीव कागज नहीं.....
मेरी अपनी बुद्धि है
जिसमें लहु दौड़
लगाता है
मैं तुम्हारी भाषा क्यों बोलूं
तुम्हारे ही विचारों को
सही क्यों ठहराऊ?
जब मैं निर्जीव कागज ही नहीं।
-
-कैलाश चंद चौहान

Posted in | 5 Comments

जया केतकी का आलेख- शिक्षकःसिद्धान्त है . . . . .

(शिक्षक दिवस पर विशेष)


‘‘एक शिक्षक शिक्षा देता है, पढाता है। एक अच्छा शिक्षक समझाता भी है। एक श्रेष्ठ शिक्षक विस्तार पूर्वक व्याख्या करता है। किंतु एक महान शिक्षक वही है जो सतत सीखता है और सदैव सीखने की ओर प्रेरित करता है।’’

गुरुर ब्रह्मा, गुरुर विष्णु गुरुदैवो महेश्वरः।
गुरु-साक्षात-परब्रह्म, तस्मै श्री गुरुवे नमः।।

आषाढ मास की पूर्णिमा का विशेष महात्व होता है। इस दिन को गुरु पूर्णिमा के रुप में मनाया जाता है। गुरु-पूर्णिमा के दिन शिष्य अपने गुरु का सम्मान करते है। आदिकाल से यह परम्परा चली आ रही है। कि शिष्य अपने गुरु का सम्मान करें, उनकी आज्ञा का पालन करें।
गुरु की आवश्यकता -
गुरु शब्द का अर्थ है- अंधकार को दूर करना। गुरु (शिक्षक) अपने शिष्य के जीवन का माया-मोह रुपी अंधकार क दूर करने में सहायता करते हैं।
गुरु-गोविंद-दोऊ खडे काकेलागू पाय
बलिहारी गुरु आपकी गोविंद दियो बताय

गुरु के बारे में यह मान्यता है कि जब गुरु और ईश्वर दोनों आमने-सामने होते हैं। तो ईश्वर भी पहले गुरु की आराधना करने को कहता है। ईश्वर से भी पहले गुरु का स्थान होता है। गुरु ही ब्रम्हा है, गुरु ही विष्णु है और गुरु ही शिव है। गुरु की महिमा का जितना भी बखान किया जाए कम है। प्राचीन काल में गुरु, ब्राहम्णों को ही शिक्षा देने का अधिकार था। समय के साथ सभी मूल्यों में परिवर्तन आने लगा और सभी जाति के लोगों ने शिक्षण का कार्य आरंभ कर दिया है जो भी व्यक्ति योग्य है उसे शिक्षा देने और-समाज को शिक्षित बनाने का अधिकार है।
गुरु को ईश्वर के समान ही पूजा जाता है गुरु-पूर्णिमा के दिन गुरु का सम्मान करके शिष्य अपने प्यार और सम्मान को दर्शाते है। गुरु के द्वारा दिया गया ज्ञान अनमोल होता है। शिष्य उसका मूल्य नहीं चुका सकता है। अतः गुरु दक्षिणा देकर वह उस ऋण के एक अंश मात्र को ही चुका पाता है। गुरु बनना आसान नहीं है किसी भी व्यक्ति को गुरु बनकर अपने पद की गरिमा को बनाना होता है।

गुरु-शिष्य के रिश्तों का अवमूल्यन

आदिकाल म गुरु की महिमा ईश्वर से भी श्रेयस्कर रही। गुरु का स्वरुप उसके शिष्य के लिए ईश्वर-पालक, माता-पिता, सभी से बढकर होता था। गुरु भी अपने शिष्य को वही सब देने का प्रयास करता जो उसे एक पिता के रुप म एक माता के रुप में एक शिक्षक के रुप में दिया जाना चाहिए था। शिष्य गुरु के निवास स्थान पर जाकर इस प्रकार रहते थे जैसे एक पुत्र अपने अभिभावक के साथ रहता है। वे अपने गुरु के घर उन सभी कार्यो को करते थे जो जीवन यापन के लिए आवश्यक होता। जैसे जंगल से लकडी लाना, जल भरना, भोजन बनाना, घर की साफ-सफाई करना और गुरु की सेवा करना। इसके साथ ही वे गुरु के द्वारा दिया गया ज्ञान ग्रहण करते। उस समय में गुरु का शिष्य के प्रति सेवा-भावना और दोनों ही अद्वुत थे।
आज के समय में गुरु का स्वरुप मात्र शिक्षक के रुप में रह गया है। आधुनिकता की चादर तले विद्या और ज्ञान का स्थान शिक्षा ने ले लिया है। यह शिक्षा जो व्यक्ति को समाज से जोडने और जीविका का साधन जुटाने में सहायक हो। शिक्षा के इस प्रति दिन अपडेट होते परिवेश ने शिष्य और शिक्षक के संबधों की गरिमा को काफी पीछे छोड दिया हैं। आज का विद्यार्थी अपने शिक्षक को जिसे व्यक्ति उपयोग के बाद बंद करके रख देता हैं। शिक्षक और शिष्य के बीच पिता-पुत्र या गुरु का संबंध न होकर थोथी मित्रता और बराबरी का संबंध-दिखाई देता है। जहां एक ओर-शिक्षक के कंधे पर हाथ रखकर चलते नजर आते है। वही कुछ शिक्षक ऐसे भी है जो अपने विद्य्नार्थीयों के साथ बैठकर सिगरेट और-अन्य पदार्थो का सेवन करते है। इन्ही व्यावसायिक शिक्षको के कारण गुरु की गरिमा आज घटती जा रही है। बुल मिलाकर समय की तेजी के साथ गुरु व शिष्यों के बीच दूसरी बातो का तेजी से अवमूल्यपन होता जा रहा है। जैसे-जैसे शिक्षा के स्वरुप व्यावसायिक होता जा रहा है वैसे-बैसे दोनों के बीच की दूरियां घट कर न के बराबर होती जा रही है। क्या हमारा समाज इसके लिए जिम्मेदार है या हमारी शिक्षा प्रणाली ?

१९६२ में डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन हमारे देश के द्वितीय राष्ट्रपति चुने गये। ५ सितंबर को उनका ७४ वां जन्म दिन मनाया गया। जब उनके मित्रों और शिष्यों ने उनसे, उनका जन्म दिन धूमधाम से मानने की अनुमति मांगी तो उन्होंने कहा, ‘‘मुझे खुशी होगी यदि आप लोग मेरा जन्म दिन मनाने के बदले ५ सितंबर को शिक्षक दिवस के रुप में मनाएं।’’

५ सितंबर १९६२ को पहली बार शिक्षक दिवस मनाया गया। इस परंपरा को आगे बढाते हुए सभी शिक्षण संस्थाओं में इस दिन शिक्षकों का सम्मान किया जाता है। विद्यार्थी अपने शिक्षकों के प्रति सम्मान और स्नेह प्रदर्शित करने के लिए सांस्कृति कार्य क्रम भी प्रस्तुत करते है। डॉ. राधाकृष्णन स्वयं एक शिक्षक थ। उन्होने २१ वर्ष की आयु में १९०९ में मद्रास के प्रेसीडेंसी कॉलेज में व्याख्याता के सम्मान जनक पद से अपना शिक्षण कार्य आरंभ किया। डॉ. राधाकृष्णन एक होनहार बालक थे। ओर उन्होने अपनी शिक्षा विशेष योग्यता के साथ उत्तीर्ण की। उन्होंने अपनी अधिकतम शिक्षा छात्रवृति लेकर पूरी की।

डॉ. राधाकृष्णन एवं डॉ. जाकिर हुसैन
ए.एम.यू. के विद्यार्थियों के साथ
डॉ. राधाकृष्णन दर्शनशास्त्र में रुचि रखते थे। उन्होनें विश्व के सभी बडे दार्शनिकों के लेखों और विचारों का गहन अध्ययन किया उन्होनें दर्शनशास्त्र पर अनेक पुस्तकें लिखी। उनकी इंडियन फि लासफी नामक पुस्तक एक उत्कृष्ट कृति है। उन्होंने भारत के अनेक कॉलेजों में अपने ज्ञान के माध्यम से योगदान दिया। १९३१ में वे आंध्रप्रदेश यूनीवर्सिटी के उप कुलपति के रुप में चुने गये। अपने ५ वर्षो के कार्यकाल में उन्होनें आन्ध्रप्रदेश यूनीवर्सिटी को उत्कृष्ठ विश्वविद्यालय का स्वरुप दिया।

डॉ. राधाकृष्णन पं. मदनमोहन मालवीय द्वारा स्थापित बनारस हिन्दू विश्व विद्यालय के उप कुलपति पद पर भी रहे। उन्होने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय को अपनी सेवाएं प्रदान की। भारत द्वारा अंग्रेजों से १५ अगस्त १९४७ को आजादी हासिल करने के बाद डॉ. राधाकृष्णन ने भारतीय शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए अनेक प्रयास किए वह १९५२ में भारत के प्रथम उप राष्ट्रपति चुने गये। वह एक कुशल वक्ता भी थे। उनके बारे में नेहरु जी ने कहा डॉ. राधाकृष्णन जिस प्रकार से इन बैठकों और सभाओं का संचालन करते है, कि सारा वातावरण पारिवारिक हो जाता है।
डॉ. राधा कृष्णन एक अच्छे इन्सान भी थे। उन्हें गरीबों से बेहद हम दर्दी थी। उन्होने प्रारंभिक शिक्षा को अनिवार्य और निशुल्क बनाने के लिए प्रयास किये थें। दस वर्षो तक उन्होने उप राष्ट्रपति के रुप में देश की सेवा की इसके बाद १९६२ में वे राष्ट्रपति बनाए गए। वह विद्धान तो थे ही, महान भी थे। १९६४ में नहेरु जी का देहान्त हो गया ओर श्री लाल बहादुर शास्त्री प्रधानमंत्री बनाए गए।

डॉ. राधाकृष्ण ने सभी राजनीतिक कर्णधारों को निःस्वार्थ भाव से मार्गदर्शन दिया। उन्होने १५ वर्षो तक देश की लगातार सेवा के बाद तक देश की लगातार सेवा के बाद १९६७ में आगे कार्य करने से इन्कार किया और ७९ वर्ष की आयु में अपने पेत्रिक गांव लौट गए। १७ अप्रैल १९७५ को यह अनमोल चिराग सदा के लिए लौ-हीन हो गया।
शिक्षक दिवस के रुप में डॉ. राधाकृष्णन एक देश सेवक शिक्षाविद और मानवीय धारणाओं के प्रति स्थापक के रुप में सदैव अमर रहगे।
स्टेलिन,१९५२(सोवियत संघ) ने कहा,
‘‘तुमने मुझे एक मानव समझकर व्यवहार किया, तुम्हारे जाने का मुझे दुखः है । तुमने भारत और सोवियत संघ के संबंधों को मजबूत और मधुर बनाया। मेरे जीवन के अब कुछ ही दिन शेष है। परन्तु मैं चाहता ह, तुम सौ वर्ष जियो।’’

-जया केतकी



Posted in | 10 Comments

महेंद्र वर्मा की एक ग़ज़ल

रचनाकार परिचय
नाम- महेंद्र वर्मा
जन्म- 30 जून १९५५, छत्तीसगढ़ के दुर्ग ज़िले के गांव बेरा में।
शैक्षणिक योग्यता- बी.एस-सी.,एम.ए.,दर्शनशास्त्र
सम्प्रति- वरिष्ठ व्याख्याता जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान बेमेतरा,जिला दुर्ग छत्तीसगढ़
रचनाएं- आलेख, निबंध, गजलें, बाल कविताएं, रेडियो वार्ता आदि के रूप में पत्र-पत्रिकाओं और रेडियो से प्रसारित-प्रकाशित
विशेष- छत्तीसगढ़ की विद्यालयीन पाठ्य पुस्तक में एक गीत सम्मिलित
प्रकाशन- प्रकाशित कविता संग्रह ‘‘निनाद‘‘ का संपादन, विगत 25 वर्षों से वार्षिक पत्रिका शिक्षक दिवस का सम्पादन
जब यादों का दरिया रिसता होगा शायद,
रफ़्ता-रफ़्ता वक्त बिखरता होगा शायद।


कुछ लोगों के ख़्वाब सुनहरे से होते हैं,
उनके छत पर चांद ठहरता होगा शायद।


आंगन के कोने में देखो फूल खिले हैं,
कोई बचपन वहीं ठुमकता होगा शायद।


एक सितारा बुझा-बुझा सा रोज भटकता,
मेरी हालत से वाबस्ता होगा शायद।


बूंदें क्यूं टपका करतीं सावन में टप-टप,
किसी हीर का दर्द पिघलता होगा शायद।


दुनिया में कितने हैं जो मेरे अपने हैं,
हर कोई यह बात सोचता होगा शायद ।

Posted in | 5 Comments

जन्माष्टमी महोत्सव

आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी के इस पावन दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएँ! श्री कृष्ण की कृपा से आप और आपका परिवार सभी सुखी हो, मंगलमय हों, ऐसी प्रभु श्री कृष्ण से प्रार्थना करते हैं. कृष्ण जन्मोत्सव को धूमधाम से मनाने के प्रयोजनार्थ आप सभी के लिए प्रस्तुत है रश्मि प्रभा, कविता किरण, संगीता सेठी, जया केतकी और सुनील गज्जाणी द्वारा सजाई 'जन्माष्टमी विशेषांक' के रूप में श्री कृष्ण की विभिन्न झाँकियाँ!

कृष्ण जन्म


सूरदास ले बाल-रूप
यशोदा ले माखन
अतृप्त ममता का प्यार
लिए खडी है देवकी
गागर भरकर गोपियाँ
प्रेम रंग में उधो
गर्व लिए वासुदेव और नन्द
प्रतीक्षित मंद मुस्कान संग राधा
जोगन बनी मीरा
सब हैं मगन रंग
जन्म लीला करने को आए
कृष्ण बांसुरी के संग

बांसुरी की धुन में गाओ सब मिलकर
जनम लियो कृष्ण अवतार लेकर
होगा चमत्कार
आयेंगे इन्द्र मेघ समूह लेकर
यमुना फिर झूमेगी
धरती भी झूमेगी
किसान झूम-झूम गायेंगे
खेत लहलहाएंगे
आए कृष्ण घुटने पर
बादलों का राग लिए
विद्युत - सी शोभा लिए
मुसलाधार बारिश लिए -- -

भीगी-सी काया लिए
मैं बनी यशोदा
दुलारा है ललना को
लगाया है काजल
'यदा यदा ही धर्मस्य ....' की गूँज है
बारिश की बूंदों में
ब्रह्माण्ड मेरी गोद में
प्रकृति इतराई है

गोकुळ के भाग खुले
दसो दिशी द्वार खुले
कलयुग की धरती पर
कृष्ण के पाँव पड़े
***

प्रभु तुम और मैं !


कस्तूरी मृग बन मैंने ज़िन्दगी गुजारी
प्रभु तुम तो मेरे अन्दर ही सुवासित रहे !
मैं आरती की थाल लिए
व्यर्थ खड़ी रही
प्रभु तुमतो मेरे सुकून से आह्लादित रहे!
मेरे दुःख के क्षणों में
तुमने सारी दुनिया का भोग अस्वीकार किया,
तुम निराहार मेरी राह बनाने में लगे रहे
और मैं !
भ्रम पालती रही कि -
आख़िर मैंने राह बना ली !
मैं दौड़ लगाती रही,
दीये जलाती रही
- तुम मेरे पैरों की गति में,
बाती बनाती उँगलियों में स्थित रहे !
जब-जब अँधेरा छाया
प्रभु तुम मेरी आंखों में
आस-विश्वास बनकर ढल गए
और नई सुबह की प्रत्याशा लिए
गहरी वेदना में भी
मैं सो गई -
प्रभु लोरी बनकर तुम झंकृत होते रहे !

.............
प्रभु तुमने सुदामा की तरह मुझे अनुग्रहित किया
मुझे मेरे कस्तूरी मन की पहचान दे दी !

- रश्मि प्रभा


ओ साँवरिया!

कैसे काटूं ये कोरी कुआँरी उमरिया
ओ सांवरिया!
अब तो अधरों पे धर ले बनाके बाँसुरिया
ओ सांवरिया!

राह तकते नयन मेरे पथरा गये
आ गये सामने तुम तो घबरा गये

लाज के मारे मर ही न जाए गुजरिया
ओ साँवरिया!

बिन तेरे ब्रज की गलियाँ भी सूनी लगे
है जरा-सी मगर पीर दूनी लगे

फोडने आ जा पनघट पे छलके गगरिया
ओ साँवरिया!

रास संग गोपियों के रचाई नहीं
नींद कितने दिनों से चुराई नहीं

आ जा जमना किनारे पुकारे बावरिया
ओ साँवरिया!
कर दे बेसुध मोहे मुरली की तान से
जान चाहे चली जाए फिर जान से

आके ले ले ओ निर्मोही मोरी खबरिया
ओ साँवरिया!

बाग में पेड पर पक गये आम हैं
दूर मेरी नजर से मेरे ष्याम हैं

द्वार पे है लगी कब से प्यासी नजरिया
ओ सांवरिया!

जीत पाया नहीं जो हृदय श्याम का
राधिके! रूप तेरा ये किस काम का

मुँह चिढाए मोहे सूनी-सूनी सजरिया
ओ साँवरिया!

कैसे काटूं ये कोरी कुआँरी उमरिया
ओ साँवरिया!
अब तो अधरों पे धर ले बनाके

-कविता किरण

नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की

वर्षा है कि रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। खुशी के मारे यमुना जी उप न कर वसुदेव की टोकरी में लेटे कन्हैया के चरण चूमने का प्रयास कर रही है। कल्पना करते ही यह सारा का सारा दृश्य मेरी आंखों के सामने चल चित्र की तरह घूम गया। श्रावण मास की पूर्णिमा जिसे हम रक्षा बंधन के रुप में मानते है। उसके ठीक आठवे दिन कृष्ण जन्म महोत्सव पूरे भारत देश म धूमधाम के साथ मनाया जाता है “ जनमाष्टमी “ का प्रमुख उत्सव मथुरा और वृन्दावन में होता है। पॉराणिक कथाओं के अनुसार धरती पर बढ रहे अपराधों ओर अत्याचारों को मिटाने के लिए द्वापर युग में विष्णु ने कृष्ण के रुप में अवतार लिया। जिन परिस्थितियों में कृष्ण ने जन्म लिया वे बडी विकट थी मथुरा में कंस की दुष्टता दिनों-दिन बढती जा रही थी। उसकी अत्याचारों से त्रस्त जनता भगवान से नित्य प्रार्थना करने लगी। एक दिन आकाशवाणी हुई कि देवकी और वसुदेव की आठवी संतान कंस का सर्वनाश करेगी। इसके बाद कंस ने देवकी और वसुदेव को करागार में बंदी बना कर रख दिया। अब उनकी जो भी संतान होती उसे कंस मार डालता। परन्तु देवकी और वसुदेव ने यह निश्चय कर लिया था। कि वे अपनी आठवी संतान को जरुर बचायेंगे। जैसे ही कृष्ण का जन्म हुआ बसुदेव उन्हें बांस की डलिया में छिपाकर नंदगाव ले आए और नंदबाबा के घर दे आए।

नंद बाबा ने उस बालक को रख लिया तथा अपने घर जन्मी कन्या को वसुदेव जी को दे दिया। जब कंस ने यह खबर सुनी कि देवकी ने आठवी संतान को जन्म दिया है तो वह कारागारकी ओर दोडा और जैसे ही उसने बच्ची को मारने के लिए उठाया वह कंस के हाथ से छूटकर देवी के रुप में प्रकट हुई और हंसते हुए बोली हे दुष्ट तुझे मारने वाला-कही और जन्म ले चुका है और अंतर्ध्यान हो गई।

बालपन से ही कृष्ण गोकुल वासियों के मनमोहन थे, उनके ह्दय की धडकन थे। उन्हें माखन और दही बहुत प्रिय था। वे नित नई बाल लीला से नंदगांव के निवासियों को लुभाते । कृष्ण ने अनेक असुरों का नाश किया। तथा ब्रज के वासियों को विपदाओं से बचाया। कृष्ण के जन्म को मनाने के लिए पूरे श्रावण मास से झूलनोंत्सव और रासलीलाएं आयोजित की जाती है। आज के समय में मटकी से दही भरकर काफी ऊंचाई पर टांगते है। जिसे बिना किसी सहारे के एक समूह के लोग एक के ऊपर एक स्तंभ रुप में चढते है और उस मटकी को फोडते हंंै। जो समूह विजेता होता हैं उसे इनाम दिया जाता है जिन शहरों में इस प्रकार की प्रतियोगिता आयोजित की जाती है उस शहर के प्रतिष्टित नागरिक तथा व्यापारी वर्ग इनाम घोषित करते है। यह एक मनोरंजन दृश्य होता है।

कृष्ण मंदिरों में पूरे मास सतसंग रासलीला तथा गोपाल काला आदि का आयोजन किया जाता है। जम्माष्टमी के दिन श्रद्धालु दिनभर उपवास करते है तथा मंदिर में या अपने घर में रात १२ बजे कृष्ण जन्म मनाते हैं। घर में अनेक प्रकार के स्वादिष्ट पकवान, दूध, दही से उन्हें भोग लगाते है। फिर भोजन करते है।

कृष्ण जन्माष्टामी का महत्व बताने के लिए शालाओं और मन्दिरों में कृष्ण के समय और लीलाओं की झांकिया लगाई जाती है। जिसमें यमुना किनारे गेंद खोलने का दृश्य, माखन चुराने का दृश्य, कालिया नाग से लडाई का दृश्य, गोर्वधन पर्वत उठाये हुए कृष्ण तथा रासलीला के दृश्य प्रमुख होते है।

-जया केतकी

रुक्मिणी और राधा:सम्पूर्ण जीवन दर्शन
जब-जब रुक्मिणी और राधा का नाम एक साथ आते है तो जेहन में एक तस्वीर सामने दिखाई देती है वो कृष्ण की होती है ।क्योंकि चराचर जगत में रुक्मिणी और राधा का सम्बन्ध श्रीकृष्ण से है । रुक्मिणी श्रीकृष्ण की पत्नी और राधा श्रीकृष्ण की प्रेमिका के रूप में जानी जाती है । आम जगत में रुक्मिणी और राधा की यही पहचान है । इसी दृष्टिकोण से जब आम आदमी देखता है तो श्रीकृष्ण का आलोचक बन जाता है । परंतु श्रीकृष्ण तत्व के दर्शन पर जाएँ बेहद खूबसूरत मींमांसा नज़र आती है । रुक्मिणी को देह और राधा को आत्मा माना है । श्रीकृष्ण का रुक्मिणी से सम्बन्ध दैहिक और राधा से सम्बन्ध आत्मिक माना है ।
रुक्मिणी और राधा का दर्शन बहुत गहरा है । इसे सम्पूर्ण सृष्टि के दर्शन से जोड़कर देखें तो सम्पूर्ण जगत की तीन अवस्थाएँ हैं :-
• स्थूल
• सूक्ष्म
• कारण
स्थूल जो दिखाई देता है जिसे हम अपनी आँखों से देख सकते हैं और हाथों से छू सकते हैं वह कृष्ण-दर्शन में रुक्मणी कहलाती है । सूक्ष्म जो दिखाई नहीं देता और जिसे हम ना आँखों से देख सकते हैं ना ही स्पर्श कर सकते हैं , उसे केवल महसूस किया जा सकता है वही राधा है और जो इन स्थूल और सूक्ष्म अवस्थाओं का कारण है वह है श्रीकृष्ण और यही कृष्ण इस मूल सृष्टि का चराचर है । अब दूसरे दृष्टिकोण से देखें तो स्थूल देह ,और सूक्ष्म आत्मा है । स्थूल में सूक्ष्म समा सकता है परंतु सूक्ष्म में स्थूल नहीं । स्थूल प्रकृति है और सूक्ष्म योगमाया है और सूक्ष्म आधार शक्ति भी है लेकिन कारण की स्थापना और पहचान राधा होकर ही की जा सकती है । यदि चराचर जगत में देखें तो सभी भौतिक व्यव्स्थाएँ रुक्मणी और उनके पीछे कार्य करने की सोच राधा है और जिनके लिए यह व्यवस्थाएँ की जा रही हैं और जिनके लिए यह व्यव्स्थाएँ की जा रही हैं वो कारण है। स्थूल की स्थिति में आना बेहद आसान है यानि रुक्मणी बनना बेहद आसान है लेकिन सूक्ष्म की स्थिति विरल बन कर ही पाई जा सकती है यानि दैहिक तत्त्वों से परे गल कर ही पाई जा सकती है । श्रीकृष्ण के प्रशंसक उनका नैतिक समर्थन करते हुए कहते है कि क्या हुआ यदि उनके सम्बन्ध रुकमणी से भी थे और राधा से भी । श्रीकृष्ण में वो क्षमता भी थी कि वो देह बनकर भी जीते और आत्मा बनकर भी । ऐसी क्षमता हर किसी में होना सम्भव नहीं । और रुक्मिणी और राधा का पूरा दर्शन साकार हो जाता है ।

-संगीता सेठी

हे ! कृष्ण

हे ! कृष्ण
मैं तुम्हे आज भजन
नहीं सुनाउगा
ना ही साष्टांग करूँगा
हे ! कृष्ण
तुमसे से हालत क्या छिपे है
फिर भी निष्ठुर बने हो
क्यूँ वंदन करू तुम्हे
तुम ही बताओ ?

पीड़ित मेरा रोम रोम
हर पौर सुलग रहा है
क्यूँ ?
उत्तर है !हाथ हाथ को खा रहा है
पाँव पाँव को कुचल रहा है

दृष्टी!
दृष्टी भेद करती है द्रश्य देखने में
जब कि
मस्तिष्क !
ह्रदय !
नियंत्रित रखता हूँ
यथा स्थान उपयोग करता हूँ
फिर भी भय क्यूँ ?
मेरे अपने ही मुझे प्रताड़ित
करते है
हे ! कृष्ण

उत्सव है आज तुम्हारा आज
तुम्हारे
अवतार का असंख्य भीड़ है
तुम्हारे देवालाओं के आगे
और किस भाव से
तुम्ही जानो !
संभव होतो सब दो उन्हें
परन्तु
सद्भुधि !
विवेक !
भी प्रदान करना
मेरी अरदास है
हे ! कृष्ण

कोई नस्ल नहीं
ना कोई धर्म
मैं नहीं मानता
तो फिर
धर्म , जाति पे
जेहाद
अलगाववाद क्यूँ ?
हे ! कृष्ण
घर बटा है सदा
आँगन नहीं
परन्तु कृष्ण
मैं तो आँगन हूँ
और
मेरा बटवारा
हे ! कृष्ण
तुम्ही बताओं
क्या ये सही है ?
नित्य स्वयं से
मंथन करता हूँ
विष ही पीना पड़ता है
दुःख हरो
हे ! कृष्ण
रास रचो फिर कोई
फिर एकीकार हो
मंगल गान हो !

हे ! कृष्ण
सुन रहे हो ना मेरी अरदास ?
अपने अधरों कि मुस्कान
मुझे भी बाँट दो ना
प्रतीक्षा है !
वेदना ही भजन है मेरा
अश्रु छलक पड़गे मेरे
हे ! कान्हा
तुम हो मुझे में ही बसे
परन्तु
और ज्ञान दो
दिशा दो !
मैं अर्जुन कि भांति
संबल दो
हे ! कृष्ण !

उत्सव है
आज तुम्हारा
ऐसा कुछ वरदान दो
एक बार फिर गीता ज्ञान दो !

-सुनील गज्जाणी









Posted in | 21 Comments
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.