प्रभा मुजुमदार की कविताएँ

रचनाकार परिचय
नाम: डॉ. प्रभा मुजुमदार
जन्म तिथि: 10.04.57, इन्दौर (म.प्र.)
शिक्षा: एम.एससी. पीएच.डी.(गणित)
सम्प्रति: तेल एवम प्राकृतिक गैस आयोग के आगार अध्ययन केन्द्र अहमदाबाद मे कार्यरत
प्रथम काव्य संग्रह: ‘अपने अपने आकाश’ अगस्त 2003 मे प्रकाशित. ‘तलाशती हूँ जमीन’ दूसरा काव्य संग्रह: 2009 मे.
विभिन्न साहित्यिक पत्रिकाओं ‘वागर्थ’, ‘प्रगतिशील वसुधा’, ‘नवनीत’, ‘कथाक्रम’, ‘आकंठ’, ‘उन्नयन’, ‘संवेद वाराणसी’, ‘देशज’, ‘समकालीन जनमत’, ‘वर्तमान साहित्य’, ‘अहमदाबाद आकार’, ‘देशज’, ‘पाठ’, ‘लोकगंगा’, ‘समरलोक’, ‘समय माजरा’ अभिव्यक्ति अक्षरा उदभावना आदि में प्रकाशित.
नेट पत्रिकाओं ‘कृत्या’, ‘सृजनगाथा’, ‘साहित्यकुंज’ मे प्रकाशन
आकाशवाणी एवं दूरदर्शन से कविताओं का प्रसारण.
सम्पर्क: डॉ. प्रभा मुजुमदार, ए-3,अनमोल टावर्स, नारानपुरा, अहमदाबाद-380063.
दूरभाष: 079/27432654 मो. 09426614714

एहसास

एक पहचान थी

जो धीरे धीरे

मगर लगातार

मिटती जा रही है.

काफिले के भीतर

मै समाती जा रही हूँ.

मेरे शब्द

भीड के नारों में

खोते जा रहे हैं.

सोच.....

अब उसका महत्व नही

शायद जरुरत भी नही.

क्या है खोने के लिये अब

फिर भी अपने से इतना मोह.

मुठ्ठी में समा गये हों

जैसे सम्पूर्ण प्राण

मै कस कर

अपनी ही हथेलियां

भींचती जा रही हूँ.
***

मूल्यबोध

संशय के कोहरे में

डूबा हुआ सच

रिश्तों की गर्माहट

नकारता हुआ स्वार्थ

लोह दुर्ग के भीतर

गरजता फुफकारता अहम...

अपने ही अवमूल्यन को

समय के सापेक्ष देखते हुए

आत्म तुष्टि का अहसास

क्या एक विवशता भर है

सुनियोजित चुनाव नही?
***

सम्पूर्ण

दर्पण में उभरा एक अक्स

कभी धुन्धलाता

तो कभी चमकता हुआ

सूरज की प्रखरता के साथ

घटती बढती परछाई.

खंडहर में

शब्दों की गूँजती हुई

प्रतिध्वनियां....

अलग अलग ये हिस्से

मेरे ही हैं न?
***

सम्भावना

फिर खत्म हो गई एक कहानी.

चिन्दियाँ हवा में उड गईं.

शब्द पैराग्राफ और पन्नें

धूल, मिट्टी और पानी में गल गये.

जलते जख्म रिस कर गिरे थे

तब पूरी हुई थी शब्दों की यात्रा

कितने कितने अंतरविरोधों को पार कर.

फिर चुक गई मैं हमेशा की तरह

समय से बहुत पहले.

बटोरती हूँ शक्ति

आँसूओं की हर बून्द के साथ

अभिव्यक्त होती रहेगी अनुभूति.

फिर कोई नई कहानी आकार लेगी

इसी मलबे में से

बीते समय की पगध्वनियों से

आगत की सम्भावनाओं से.
***

आत्मबोध

एक नियत आकार

ले चुकने के बाद

बेमानी हो जाता है

अपने साँचे को लेकर

चिंतन और मंथन करना.

धुरी के साथ साथ

लगातार घूमते रहना एक सच है.

विपरीत दिशा या

मनचाही रफ्तार की

गुंजाइश नही है.

अपने अपने अधूरेपन को

सम्पूर्णता के साथ जी पाना

काश सम्भव हो पाता

तुलनाओं से होती निराशा

और पिछड जाने के दन्श से

छुटकारा तो मिलता.

क्यों अपने पर इतने प्रहार

नई शाखाओं मे पनपने के लिये

यथार्थ का बोध

हाथ पैर टूट जाने के बाद ही

क्यों होता है ?
***

समाधान

प्रश्न ...

जो खत्म नही होते

और उत्तर

तलाशे नही जा सकते

मकडी के जाले में

फँसे होने का

अहसास दिलाते हुए

चट्टानों से टकराकर

लौटती गरजती लहरों के साथ

तो कभी इन्द्रधनुष के रंगों में

तलाशती हूँ

शायद छिपा हो

कोई जवाब.
***

अभिनय

मेरे चारों ओर

मुखौटों के जंगल है.

मुखौटें...

जिन्हें सुविधानुसार पहनने

उतारने और

बदलने की आजादी होती है.

गांव की चौपाल से लेकर

वैश्विक मंचों तक

सब कुछ कैमरों में कैद है.

प्रशिक्षण शालाओं में

सिखाया जा रहा है

बोलने, हंसने, रोने

और खडे होने के ढंग.

मुझे अपनी उपस्थिति दर्ज करानी है

हर जूलुस में

हर जलसे में.
***

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

7 Responses to प्रभा मुजुमदार की कविताएँ

  1. behtrin kavitayen... main khusd ek kavi hoon..aur aapki soch aur samajh ko salam karta hoon...

    ReplyDelete
  2. maine dobara padha... aur daave se kah sakta hoon..prabha ji aaj tak maine kisi blog par itni achchi kavita nahi padhi..

    ReplyDelete
  3. प्रभा जी की कविताएँ हमेशा ही गहरी अर्थवत्ता के साथ प्रकट होती है। आखर कलश और प्रभजी दोनो को बधाई।

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल
    व्यंग्य http://vyangya.blog.co.in/
    व्यंग्यलोक http://www.vyangyalok.blogspot.com/
    फेसबुक http://www.facebook.com/profile.php?id=1102162444

    ReplyDelete
  4. behtreen arthpurn rachnaye ..badhai

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी लगी सभी कविताएं
    संपूर्ण खास पसंद आई...बधाई.

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.