प्रेमचन्द सक्सेना 'प्राणाधार' की रचना- हिंदी

रचनाकार परिचय
नाम- प्रेमचन्द सक्सेना 'प्राणाधार'
पिता- स्व. श्री महेश्वर दयाल सक्सेना
जन्म- ३० जनवरी, १९२६
शिक्षा- एम-ए- हिंदी एवम वैद्य विशारद।
कवि, कहानीकार, उपन्यासकार, एकांकीकार, नाटककार, संस्मरण लेखक।
कार्यक्षेत्र- राजकीय सेवा में प्रसार अध्यापक के पद से सन १९८४ में सेवा निवृत हुए। हिन्दी की विख्यात संस्था 'सरस्वती साधना परिषद्' के संस्थापक अध्यक्ष हैं।
निवास-२८८-अ, गाडीवान, भीमसेन मन्दिर के सामने, मैनपुरी-२०५००१, उत्तर प्रदेश
दूरभाषः- ०९३१९१४०२१८
हिन्दी

ज्ञान और विज्ञान की ।

मानव के उत्थान की ।

जन-मानस की प्यारी भाषा,

हिन्दी हिन्दुस्तान की।

बृजभाषा में श्याम छिपे।

अवधी में श्री राम छिपे।

अपढ कबीरा की भाषा में,

निराकार, निष्काम छिपे।

गीता के उपदेश गा रहे-

गाथा जन-कल्याण की।



मीरा की वंदना यही।

तुलसी की अर्चना यही।

सूर, कबीर, नरोत्तम जैसे-

भक्तों की साधना यही।

इनका अन्तर्नाद विधा है,

विधि के नये विधान की।



यह कबीर की भाषा है।

यह रहीम की भाषा है।

सन्त जायसी के रहस्य की-

यही सत्य परिभाषा है।

मुरली के मधुरस में डूबी-

राधा है रसखान की।



जन-जन का अनुराग लिए।

बीते राग-विराग लिए।

महाशान्ति के सागर में यह-

महाक्राँन्ति की आग लिए।

देवांगरी लिपि में बांधे,

महिमा यह बलिदान की।



हर भाषा से ममता है।

आत्मसात की क्षमता है।

इसकी तुलना नहीं किसी से,

और न कोई समता है।

नवरस की जननी ने चिन्ता-

कभी न की विषपान की।

पावन यही देव वाणी।

मोहित है वीणा-पाणी।

शब्द, अर्थ, अनुभूति भाव-

अनुभाव लिए मुखरित प्राणी।

आदिकाल से मनु की हिन्दी-

भाषा है भगवान की।
***

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

14 Responses to प्रेमचन्द सक्सेना 'प्राणाधार' की रचना- हिंदी

  1. हर भाषा से ममता है।
    आत्मसात की क्षमता है।
    इसकी तुलना नहीं किसी से,
    और न कोई समता है।
    नवरस की जननी ने चिन्ता-
    कभी न की विषपान की।
    पावन यही देव वाणी।
    मोहित है वीणा-पाणी।
    शब्द, अर्थ, अनुभूति भाव-
    अनुभाव लिए मुखरित प्राणी।
    आदिकाल से मनु की हिन्दी-
    भाषा है भगवान की।

    इतनी अच्छी रचना पढ़वाने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. आदरणीय दादा प्राणाधार जी को अंतरजाल पर देखना सुखद लग रहा है। मुझे तीन वर्ष मैनपुरी में उनका स्नेह प्राप्त हुआ है। रचना तो उनकी उत्तम है ही।

    ReplyDelete
  3. हिन्‍दी दिवस पर तमाम ब्‍लागों में जितनी रचनाएं या चर्चा हिन्‍दी को लेकर आईं हैं उन सब पर यह अकेली कविता भारी है। हम सबको उनकी इस कविता से सीख लेनी चाहिए। बिना किसी और की आलोचना किए या बिना किसी और को नीचा दिखाए उन्‍होंने हिन्‍दी के बारे में अपनी स्‍थापना दी है। उनकी यह स्‍थापना सीधे हमारे हृदय में उतरती है।
    आखरकलश का शुक्रिया।

    ReplyDelete
  4. श्रेष्ठ रचना - प्राणाधार जी को सादर प्रणाम

    "हिन्‍दी दिवस पर तमाम ब्‍लागों में जितनी रचनाएं या चर्चा हिन्‍दी को लेकर आईं हैं उन सब पर यह अकेली कविता भारी है"

    उत्साही जी के इस कथन का रचना के सन्दर्भ मैं कोई औचित्य नहीं है. इसलिए आखर कलश को ऐसी टिप्पणियों को संशोधित करके प्रकाशित करना चाहिए

    ReplyDelete
  5. हर कवि की अपनी पहचान होती है, आदरणीय प्रेमचन्‍द जी कविता पहली बार पढ़ी मगर न जाने क्‍यूँ इस गीत कवि प्रदीप का गीतकाल याद आ गया।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी रचना है, नरेन्द्र जी, सुनील जी, इस रचना को आखर कलश पर प्रकाशित करने के लिए आपका आभार

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. Aise hee log Hindee ke pranadhar rahe hain. Pranadhaar jee ko padhakar aur dekhakar hindee ke liye samarpit puraanee peedhee ke saahitykaaron kee yaad aana sahaj hai. ve log keval lekhan men hee hindee naheen hain balki vesh-bhusha men, rahan-sahan men, vyavhaar men bhee hindee hain. aise hindeeseviyon ko naman.

    ReplyDelete
  9. नरेन्‍द्र जी, राकेश जी बात कुछ समझ में नहीं आई। अगर आपको आई हो तो कृपया उसके बारे में लिखें। या राकेश जी ही अपनी बात को फिर से स्‍पष्‍ट करें तो बेहतर रहेगा। चूंकि टिप्‍पणी मेरी थी,अत: समझने की जिज्ञासा है।

    ReplyDelete
  10. आदरणीय प्राणाधार जी की हिंदी को समर्पित कविता गरिमामय है और हिंदी के प्रति सच्चा प्रेम जगती है.बधाई.09818032913

    ReplyDelete
  11. यह सम्माननीय लोग हमारी अमूल्य धरोहर हैं ।

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.