जया केतकी का आलेख- रक्षा बंधन सामाजिक समरसता का अटूट रिश्ता

रक्षाबंधन पर विशेष

जया केतकी
भाई-बहन के प्रगाढ स्नेह को दर्शाने वाला रक्षा-बंधन पर्व आज भी हमारे देश में धूम धाम से मनाया जाता है। रक्षाबंधन का शाब्दिक अर्थ है रक्षा बंधन अर्थात् परस्पर रक्षा हेतु बंधना, राखी बांधकर रक्षा की अपेक्षा की जाती है। पुरुष नारी की रक्षा करता है। यह हमारी भारतीय परम्परा है। इसीलिए बहनें अपने भाईयों को राखी बांधती हैं। यह राखी एक धागा न होकर प्रेम, विश्वास, आस्था तथा सुरक्षा का अभिवचन स्प्रेषित करता है। वस्तुतः इस धागे के पीछे छिपा है, नारी के सम्मान की रक्षा के लिए सर्वस्व समर्पण करने वाले वीर एवं सामर्थ्यवान पुरुषों का इतिहास।


आधुनिकता अपने पैर-पसारती जा रही है फिर भी हम अपनी सभ्यता और संस्कृति को भूलेंगे नहीं। राखी का त्यौहार पूरे देश में हर जाति और धर्म के लोगों द्वारा मनाया जाता हैं। श्रावण मास की पूर्णिमा को यह पर्व मनाया जाता है। दिये की ज्योति को साक्षी मानकर बहनें अपने भाईयों को रक्षा सूत्र बांधती हैं तथा उनके दीर्घ और खुशहाल जीवन की कामना करती हैं। तभी भाई भी अपनी बहन की रक्षा का प्रण लेते हैं। व्यस्तता और महँगाई के भीषण दौर में पर्वों के साथ ही रिश्तों का मूल्य घटता जा रहा हैं राखी का त्यौहार उन बंधनों की याद दिलाता है जो पूर्णतः स्वच्छ और निःस्वार्थ हैं। बहनों को आशा है अपने भाईयों से प्रेम और स्नेह की। भाईयों को अपने कर्त्तव्य पालन में पीछे नहीं हटना चाहिए।


“येन बद्धो, बलि राजा दान विन्द्रो महाबलम।
तेन-त्वाम अनुबन्धामी, रक्षे मां चला मां चलम।।“


अर्थात मैं यह रक्षा सूत्र बांध रही हूं, ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार लक्ष्मी जी ने असुरराज बलि को बांधा था और अपनी रक्षा करने का वचन लिया था। इसी समय से रक्षा सूत्र बांधने का नियम बना जिसे आज भी बहन अपने भाई को कलाई पर बांधकर परंपरा को निर्वाहकर रही है। कथा इस प्रकार है कि प्रहलाद का पुत्र और हिरण्यकश्यप का पौत्र बलि महान पराक्रमी था। उसने सभी लोकों पर विजय प्राप्त कर ली। इससे देवता घबरा गए और विष्णु जी की शरण में गएं विष्णु जी ने बटुक ब्राह्मण का रूप धारण किया और बलि के द्वार की ओर चले।


असुरराज बलि विष्णु जी के अनन्य भक्त थे तथा शुक्राचार्य के शिष्य थे। जब बटुक स्वरूप विष्णु वहाँ पहुँचे तो बलि एक अनुष्ठान कर रहे थे। जैसे कि हे ब्राह्मण मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ। बटुक ने कहा मुझे तीन पग भूमि चाहिए।


महाराज बलि ने जल लेकर संकल्प किया और ‘तीन पग‘ भूमि देने को तैयार हो गए। तभी बटुक स्वरूप विष्णु अपने असली रूप में प्रकट हुए। उन्होंने दो पग में सारा ब्रह्माण्ड नाप लिया तथा तीसरा पग रखने के लिए कुछ स्थान न बचा। तभी बलि ने अपने सिर आगे कर दिया। इस प्रकार असुर को विष्णु जी ने जीत लिया और उस पर प्रसन्न हो गये। उसे पाताल में नागलोक भेज दिया। विष्णु जी बोले मैं तुम से प्रसन्न हूँ मांगों क्या मांगते हो?े तब बलि ने कहा कि जब तक मैं नागलोक में रहूंगा आप मेरे द्वारपाल रहें। विष्णु जी मान गए और उसके द्वारपाल बन गए। कुछ दिन बीते लक्ष्मी जी ने विष्णु जी को ढूंढना आरंभ किया तो ज्ञात हुआ कि प्रभु तो बलि के द्वारपाल बने हैं। उन्हें एक युक्ति सूझी।


श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन उन्होंने बलि की कलाई पर एक पवित्र धागा बांधकर उसे भाई बना लिया। बलि ने भी उन्हें बहन मानते हुए कहा कि बहन मैं सदैव तुम्हारे भाई के लिए काम करूंगा। इस पवित्र बंधन से बहुत प्रभावित हुआ और बोला मैं तुम्हें एक वरदान देना चाहता हूं बहन! मांगो? लक्ष्मी जी को अपना उद्देश्यपूर्ण करना था, उन्होंने बताया जो तुम्हारे द्वारपाल है, वे मेरे पति हैं, उन्हें अपने घर जाने की आज्ञा दो। लक्ष्मी जी ने यह कहा कि ये ही भगवान विष्णु हैं। बलि को जब यह पता चला तो उसने तुरन्त भगवान विष्णु को उनके निवास की और रवाना किया। तभी से इस ‘रक्षा-बंधन‘ की परंपरा को पवित्र पर्व के रूप में मनाते है। राखी के बारे में एक और कथा प्रचलित है। यह महाभारत के समय की है। पांडवों और कौरवों में पारिवारिक विरोधाभास के कारण संबंधों में कटुता आ गई थी। पांडवों को नीचा दिखाने के लिए कौरवों ने उन्हें जुआ खेलने के लिए बुलाया। जुए में जब पांडव सब कुछ हार गए तो दुष्ट दुशासन ने द्रौपदी को भरी सभा में अपमानित करना चाहा। उससे द्रौपदी की साडी खींचना शुरू कर दिया तो द्रौपदी ने गुहार लगाई और श्री कृष्ण प्रकट हो गए। उन्होंने चीर बढाकर द्रौपदी की रक्षा की। तभी से उन्होंने कृष्ण को भाई मान लिया। इसी दौरान एक बार पांडवों और कौरवों की सभा चल रही थी। कृष्ण को इस सभा का मुख्य अतिथि बनाया गया था।
शिशुपाल की धृष्टता दिनों दिन बढती जा रही थी। वह जब-तब कृष्ण का अपमान करता रहता। वह कृष्ण का अपमान करता रहा। वह कृष्ण का मौसेरा भाई था, सो कृष्ण ने कहा कि तेरी ९९ गलतियाँ माप है जैसे ही तू, १०० वीं गलती करेगा मैं तुझे मार दूंगा। लेकिन उस दुष्ट की बुद्धि नष्ट हो गई थी। उसने भरी सभा में कृष्ण को ग्वाला और अहीर कहकर अपमानित किया। कृष्ण ने क्रोधित होकर चक्र से उसका गला काट दिया। चक्र के चलने से कृष्ण की ऊंगली घायल हो गई। द्रौपदी ने फौरन अपनी साडी चीरकर कृष्ण की ऊंगली बांध दी। इस प्रकार भाई-बहन के स्नेह की परंपरा को बाधे रखा। भारत का इतिहास उठाकर देखें तो राखी से संबंधित अनेक कथाएं और प्रसंग मिलेंगे। इसके अनुसार जब सिकन्दर और पौरूष में युद्ध ठनी तो सिकन्दर की पत्नि पुरू के पौरूष को देख व्यथित हो गई और उसने पुरू को अपना भाई बनाया। पुरू ने अपनी कलाई पर बंधी राखी का मान रखा और सिकन्दर की सुरक्षा का वचन दिया। मुस्लिम शासन के दौरान राजपूतों और रक्षाबंधन की एक कथा बडी प्रचलित है।
चित्तौड की महारानी कर्णवती ने मुगल सम्राट हुमायूं को राखी भेजकर अपनी सुरक्षा का वचन लिया था। समय के साथ राखी के द्वारा बांधे गये बंधन की पवित्रता केवल भाई-बहन के बीच ही नहीं रही। रक्षा सूत्र को एक सुरक्षा कवच माना जाने लगा। संबंधों की मिठास बनाए रखने और कटुता को मिटाने के लिए भी राखी के पवित्र धागे का प्रयोग किया गया। जब भारत में अंग्रेजी शासन को जड से मिटाने की तैयारी चल रही थी, देश के युवाओं और संगठनों ने ‘रक्षा-बंधन‘ को अनोखा स्वरूप दिया। गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर जी ने इसे एक उत्सव का रूप दिया। उन्होंने संगठन के कार्यकर्ताओं को ‘रक्षाबंधन‘ के दिन रक्षा सूत्र बांधकर देश की सुरक्षा के लिए ‘संकल्पबद्ध किया। राखी का शाब्दिक महत्व बहुत छोटा है। किन्तु उसका आंतरिक महत्व बहुत गहरा है। यह पर्व आज भी हमारे देश में भाईचारे और सद्वावना की रक्षा के उद्देश्य को चरितार्थ कर रहा है। आज भी हम इसे पूरी निष्ठा और हर्षोल्लास से मनाते हैं।
***
-जया केतकी

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

9 Responses to जया केतकी का आलेख- रक्षा बंधन सामाजिक समरसता का अटूट रिश्ता

  1. रक्षाबंधन के पावन पर्व पर बहुत सुन्दर आलेख|

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्‍छी पोस्‍ट .. रक्षाबंधन की बधाई और शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  3. रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  4. रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.
    हिन्दी ही ऐसी भाषा है जिसमें हमारे देश की सभी भाषाओं का समन्वय है।

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  6. आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    रक्षाबंधन पर हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!
    बहुत खूब लिखा है आपने! बढ़िया आलेख!

    ReplyDelete
  7. Rakhi par bahut badhiya jankari purn aalekh
    rakhi ki subhkamnayen....

    ReplyDelete
  8. केतकीजी ने पौराणिकता के आधार पर रक्षा बंधन का बड़ा ही रोचक आलेख हमें दिया है | जो अपने आप में योग्य है |

    ReplyDelete
  9. AAKHAR KALASH KA NAYA RANG ROOP ACHHA LAGA !
    SAMPADAK MANDAL KE SATHI PARAM AADARNEEY SUNIL JI GAJJANI EVAM NARENDER JI VYAS KO BADHAI !
    RAKSHA BANDHAN PAR JYA KETKI KA NIBANDHA BHI SARAHNEEY HAI _ UNHEN BHI BADHAI !

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.