शमशाद इलाही अंसारी"शम्स" की दो लघुकथाएँ












वृति


शहर में दंगा होते ही अप्रत्याशित रुप से पुलिस-प्रशासन हरकत में आ गया, दोनों पक्षों के दंगाईयों और उनके मुस्टण्डों को पकड़ कर बंद कर दिया गया, शाम होते होते स्थिति नियंत्रण में कर ली गयी, जान माल की कोई विशेष हानि न होने दी गयी. फ़िरे भी जाने क्यों रात होते होते, शहर के दोनों लडाकू समुदायों में अफ़वाहों का बाज़ार था, दोनों ही समुदायों में भारी रोष व्याप्त था
***********

त्रिकोण
 
उसने एक दिन आज से पूछा कि तू इतना विकृत, विखण्डित, दुखी, रुग्ण, निर्वीय, दयनीय और आशाहीन क्यों हैं? आज ने उत्तर दिया, तुम कल आना मैं कल से पूछकर जवाब दूँगा.
अगले दिन वह फ़िर आज के पास पहुँचा, आज ने कहा कि तुम कल आना क्योंकि कल ने कल से ये प्रश्न पूछा है, उसे जवाब मिलने में समय लगेगा, तुम कल आना, शायद मैं तुम्हे कोई उत्तर दे सकूँ.
उत्तर पाने के लिये वह तब तक चक्कर काटता रहा जब तक वह आज का रहस्य न जान गया.
*********** 

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

12 Responses to शमशाद इलाही अंसारी"शम्स" की दो लघुकथाएँ

  1. कुछ न कहकर भी बहुत कुछ कहती 'वृति' और कल-आज-कल का अनसुलझा 'त्रिकोण'; अच्‍छी लघुकथायें।

    ReplyDelete
  2. VICHARNIY LAGHU KATHAAYEN.

    ReplyDelete
  3. vicharon ka adbhut taana-baana! Badhai! Shams ji

    ReplyDelete
  4. Jee, hum afvaahon pe jeete aaye hain, jeete rahenge. Afwaahen hamaara apna vichaar jo hotee hain.

    Kal-Aaj-Kal ka trikon bhee badhiya laga.

    ReplyDelete
  5. आदिमवृत्तियों से बच पाने के लिए मनःचित्त में स्थान बनाती वृत्तियों के निरोध की चिरकाल से विधियाँ सुझाई गयीं हैं.. जिन्हें अपनाना पड़ता है निरंतरता के साथ दीर्घकाल तक. तब कहीं मानव जाति के खोल में जीने वाला प्राणि मनुष्य बनता है. हर जीनेवाला योंभी मुसल्माँ नहीं हो जाता न!
    शम्स भाई, दंगों या समस्त अधमकर्मों की पैदावार में पशुचित्तवत् खेतों में बार-बार उग आती इन आदिम वृत्तियों के बीजों की बड़ी भूमिका है.
    दूसरे, जबर्दस्ती के प्रयास-प्रबंधों की नियति वही हो सकती है जिसका जिक्र आपने किया है.. ’अफ़वाहों का बाज़ार है’ कह कर..
    लघुकथा के चरित्र को प्रतिष्ठित करने के लिए साधुवाद..

    ReplyDelete
  6. दूसरी लघुकथा त्रिकोण एक बेहतरीन लघुकथा है जो आदमी की हमेशा टालते रहने की तबीयत को शिद्दत से बताती है।

    ReplyDelete
  7. ".. तू इतना विकृत, विखण्डित, दुखी, रुग्ण, निर्वीय, दयनीय और आशाहीन क्यों"
    आह!.. आपके इस शब्द-चित्र ने हृदय विस्तार में मर्म-वेदना की सूक्ष्म तीव्रता को एकबारगी प्रतिध्वनित कर दिया है. क्या पढ़ूँ इसके आगे, भाई?..

    जो कुछ संचित जितना संचित
    भावानुभूति; अनुभूत प्रारब्ध
    जीवन-आँचल का लहराना
    सिंचित-सिंचित होते शब्द ..

    कल, आज और कल के स्थितप्रज्ञ अस्तित्व का विस्मयकारी संगम ही जीवन है न!!?

    ReplyDelete
  8. Behatreen laghukathaai hain ... kal aaj aur lab ke beech atki kahaani kamal ki hai ...

    ReplyDelete
  9. बिलकुल नये शिल्प में यह दोनो लघुकथायें है यह अच्छा लगा , इन्हे पढ़ने मे जितना समय लगा उससे ज़्यादा इन्हे सोचने में लगा ।

    ReplyDelete
  10. अच्‍छी लघुकथाएं हैं। यथार्थ के चेहरे उघाड़ती हैं ये लघुकथाएं...शिल्‍प में ताजगी है।

    ReplyDelete
  11. हार्दिक शुभकामनाएं बड़े भाई आपको.... दिल में पड़ी प्यारी सी खुशी हुई इस खबर पर ... आपका छोटा भाई भरत

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.