पुरुषोत्तम यकीन की चार ग़ज़लें















१.
हमको लडवा दिया फिर कर्फ्यू लगाने को चले
इस तरह अम्नो-अमाँ शहर में लाने को चले

रात को कत्ल जिन्होनें था किया हँस-हँस कर
सुब्ह मैयत पे वही आँसू बहाने को चले

दिल में गैरो से गिला रखना हिमाकत होगी
आँख के तारे ही जब आँख दिखाने को चले

उस ने दरिया पे नहाने को उतारे कपडे
लोग कहने लगे लो जिस्म दिखाने को चले

भैंसें हुई मदमस्त, बीन बजाने को मिली
साँप इनको भी लो सुरताल सधाने को चले

जी भरा मुझसे तो वो उस के गले जा लिपटे
मुझ से ऊबे तो ’यकीन’ और ठिकाने को चले

२.
बात दिल खोल के आपस में अगर हो जाती
हम अँधरों से उबर जाते, सहर हो जाती

कौन है गैर अगर इतना समझ लेते तुम
हम तुम्हारे हैं तुम्हें ये भी खबर हो जाती

सुलह की फिर निकल आती कोई सूरत भी जरूर
काश इस सम्त कभी उनकी नजर हों जाती

फिर न करते वो कभी मुझ को दिवानों में शुमार
दिल की हालत जो इधर है वो उधर हो जाती

राहतें मैं भी मंगा लेता मियाँ दिल्ली से
किसी मंत्री से मेरी बात अगर हो जाती

प्यार के फूल नहीं होते जो गुलशन में ’यकीन’
जिंदगी जैसे कोई सूखा शजर हो जाती

३.
हम अँधेरों में चरागों को जला देते हैं
हम पे इल्जाम है हम आग लगा देते हैं

कल को खुर्शीद भी निकलेगा, सहर भी होगी
शब के सौदागरों, हम इतना जता देते हैं

क्या ये कम है कि वो गुलशन पे गिरा के बिजली
देख के खाके-चमन आँसू बहा देते हैं

बीहडों से गुजरते हैं मुसलसल जो कदम
चलते-चलते वो वहाँ राह बना देते हैं

जड हुए मील के पत्थर ये बजा है लेकिन
चलने वालों को ये मंजिल का पता देते हैं

अधखिले फूलों को रस्ते पे बिछा कर वो यूं
जाने किस जुर्म की कलियों को सजा देते हैं

अब गुनहगार वो ठहराएँ तो ठहराएँ मुझे
मेरे अश'आर शरारों को हवा देते हैं

एक-इक जुगनू इकट्ठा किया करते हैं ’यकीन’
रोशनी कर के रहेगें ये बता देते हैं

४.
हम घूँट ये लहू के कब तक पियेंगे आखिर
यूँ जुल्म की चिता में कब तक जलेंगे आखिर

आलम है हर तरफ क्यूँ मायूसियों का सोचो
मर-मर के रोज यूँ ही कब तक जियेंगे आखिर

बढते ही जा रहे हैं साये सितम के हर सू
ये जुल्म, ये तशद्दुद, कब तक रहेंगे आखिर

रोटी के वास्ते क्यूँ बहनों ने जिस्म बेचे
मजबूर इस कदर हम कब तक रहेंगे आखिर

इक दिन ’यकीन’ होगा अपने भी घर उजाला
बादल ये जुल्मतों के कब तक रहेंगे आखिर
****************

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

14 Responses to पुरुषोत्तम यकीन की चार ग़ज़लें

  1. PURUSHOTTAM JEE KEE CHAARON GAZALEN KEE SUNDAR
    AUR SAHAJ BHAVABHIVYAKTI ACHCHHEE LAGEE HAI.
    EK MISRA YUN HONAA CHAAHIYE THAA--
    BHAINSEN MADMAST HUEE,BEEN BJAANE KO MILEE.

    ReplyDelete
  2. वाह वाह वाह
    बहुत खूबसूरत ग़ज़लें पढ़वाने के लिए आभार

    हम अँधेरों में चरागों को जला देते हैं
    हम पे इल्जाम है हम आग लगा देते हैं

    बात दिल खोल के आपस में अगर हो जाती
    हम अँधरों से उबर जाते, सहर हो जाती

    बहुत-बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  3. पुरुषोत्तम यक़ीन की शायरी बहुत जानदार है। पर एक साथ पाँच ग़जलें हमारा तो हाजमा खराब हो जाना है। एक बार में एक ही बहुत है।

    ReplyDelete
  4. PURUSHOTTAM YAQEEN KI GHAZALEN WAQAI BEHATREEN HAIN. BADHAAI.

    ReplyDelete
  5. इंतज़ार खत्म हुआ। आखिर "आखर कलश" पर "यकीन" जी की शायरी शाए’ हो ही चुकी है। मुझे बेहद खुशी है। इतनी शानदार और जानदार गज़ले शाए’ करने पर सुनील जी और व्यास जी का बहुत- बहुत शुक्रिया।

    ReplyDelete
  6. उस ने दरिया पे नहाने को उतारे कपडे
    लोग कहने लगे लो जिस्म दिखाने को चले

    ReplyDelete
  7. रात को कत्ल जिन्होनें था किया हँस-हँस कर
    सुब्ह मैयत पे वही आँसू बहाने को चले
    Siyaasat ke pahlu bahut sajeev evan sashakt hai. sunder gazals padne ko mili aabhaar!!!

    ReplyDelete
  8. bahut achhi gazale hai ,achha laga pad ker

    ReplyDelete
  9. In sunder ghazalon ke liye badhai sweekaren Rajendra Bhai.Purusottam yakin ji ko bhi lazabaab ghazalon ke liye badhai.

    ReplyDelete
  10. aap sach me bahut accha likhte hai ab to hume aapse classis leni padegi

    ReplyDelete
  11. जड हुए मील के पत्थर ये बजा है लेकिन
    चलने वालों को ये मंजिल का पता देते हैं


    अब गुनहगार वो ठहराएँ तो ठहराएँ मुझे
    मेरे अश'आर शरारों को हवा देते हैं
    Bahut achhy shabad hain....!!!

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन ग़ज़लें....

    ReplyDelete
  13. पुरुषोतम जी! मैं आपसे पूर्व परचित हूँ...मेरे संपादन 'वेणी' पत्रिका में आपकी गजलें प्रकाशित हो चुकी है| सज्ञ में नहीं था कि आप ब्लॉग से जुड़े है| अच्छा लगा| उपरोक्त गजले पढ़ी....उक्त पर मेरी शुभकामनाये........

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.