ओम पुरोहित ‘कागद’ की कविताएँ

रचनाकार परिचय
नाम:ओम पुरोहित 'कागद' 
जन्‍म:- ५ जुलाई १९५७, केसरीसिंहपुर (श्रीगंगानगर)
शिक्षा:- एम.. (इतिहास), बी.एड. और राजस्थानी विशारद
प्रकाशित पुस्‍तकें- हिन्दी :- धूप क्यों छेड़ती है (कविता संग्रह), मीठे बोलों की शब्दपरी (बाल कविता संग्रह), आदमी नहीं है (कवितासंग्रह), मरूधरा (सम्पादित विविधा), जंगल मत काटो (बाल नाटक), रंगो की दुनिया (बाल विविधा), सीता नहीं मानी (बाल कहानी), थिरकतीहै तृष्णा (कविता संग्रह)
राजस्थानी :- अन्तस री बळत (कविता संग्रै), कुचरणी (कविता संग्रै), सबद गळगळा(कविता संग्रै), बात तो ही, कुचरण्यां, पचलड़ी, आंख भर चितराम।
पुरस्कार और सम्‍मान:- राजस्थान साहित्य अकादमी का आदमी नहीं है पर सुधीन्द्र पुरस्कार’, राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी, बीकानेर की ओर से बात तो हीपर काव्य विधा का गणेशी लाल व्यास पुरस्कार, भारतीय कला साहित्य परिषद, भादरा का कवि गोपी कृष्ण दादा राजस्थानी पुरस्कार, जिला प्रशासन, हनुमानगढ़ की ओर से कई बार सम्मानित, सरस्वती साहित्यिक संस्था (परलीका) की ओर सम्मानित।
सम्प्रति:- प्रधानाध्यापक शिक्षा विभाग, राजस्थान 
ठावौ ठिकाणौ- २४, दुर्गा कॉलोनी, हनुमानगढ़ संगम ३३५५१२ (राजस्थान)
ब्‍लॉग:- 'कागद' हो तो हर कोई बांचे
****************************************************************************************************************************
मिले तो सही

धोरों की पाल पर
सलफलाती घूमती है
जहरी बांडी
मिलता नहीं कहीं भी
मिनख का जाया ।
भले ही
हो सपेरा
मिले तो सही
कहीं
माणस की गंध ।
**
यही बची है

सूख-सूख गए हैं
ताल-तलायी
कुंड-बावड़ी
ढोरों तक को नहीं
गंदला भर पानी ।
रेत के समन्दर में
आंख भर पर जिन्दा है भंवरिया ।
यही बची है
जो कभी बरसती है
भीतर के बादलों से
टसकता खारा पानी ।
**
जानता है नत्थू काका

भेड़ की खाल से
बहुत मारके का
बनता है चंग
जानता है नत्थू काका
पर ऐसे में
बजेगा भी कैसे
जब गुवाड़ में
मरी पड़ी हों
रेवड़ की सारी की सारी भेड़ें
चूल्हे में महीने भर से
नही जला हो बास्ती
और
घर में मौत तानती हो फाका ।
**
मौत से पहले

सूख-सूख मर गयी
रेत में नहा-नहा चिड़िया
नहीं उमड़ा उस पर
बिरखा को रत्ती भर नेह ।
ताल-तलाई
कुंड-बावड़ी
सपनों में भी
रीते दिखते हैं
भरे,
कब सोचा था उस ने
मौत से पहले
एक साध थी;
नहाती बिरखा में
दो पल सुख भोगती
जो ढकणी भर बरसा होता मेह ।
**
ढूढ़ता है

खेत में पाड़ डाल-डाल
थार को
उथल-पुथल कर
ढूंढ़ता है सी’ल;
आंगली भर ही सही
मिले अगर सी’ल
तो रोप दे
सिणिया भर हरा
और लौटा लाए
शहर के ट्रस्ट में
चरणे गई धर्मादे का चारा
थाकल डील गायें ।
*******

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

12 Responses to ओम पुरोहित ‘कागद’ की कविताएँ

  1. कवितायेँ गज़ब.......बधाई......लेकिन आंचलिक शब्दों को उसी अंदाज़ में देना चाहिए था......टाइप की गड़बड़ी के कारण कविता में किरकिरी महसूस होती है.........

    ReplyDelete
  2. राजस्थानी रंग में रंगी सुन्दर रचनाएँ!

    ReplyDelete
  3. अत्यंत भावप्रवण रचनाएं .........]
    मिट्टी से जुड़ी हुई.....आभार।

    ReplyDelete
  4. kagad ji aapki kavitayen bahut bolti hain.badhai.lekin ye shayed aapki rajasthani kavitaon ka hindi anuwad hai.hai naa!

    ReplyDelete
  5. आस पास से कुछ चुन लेना और शब्‍दों के ताने बाने में बुन लेना एक कला है ओर लघु कविता में यह कर लेना आज की आवश्‍यकता। बहुत खूबसूरती से इसे निभाया गया है प्रस्‍तुत कविताओं में।

    ReplyDelete
  6. 'कागद'
    यहां भी 'कागद' , वहां भी 'कागद'
    कहां कहां मिलता है 'कागद'
    'कागद' थोक में अपने घर में
    थोड़ा थोड़ा दुनिया भर में
    हर ब्लॉगर के बक्से में है
    हर फॉलोअर नक्शे में है
    'कागद' मिलता है 'रांधण' पर
    'कागद'मिलता है 'कांकड़' पर
    'आखरकलश' है घर 'कागद' का
    है 'भटनेर' नगर 'कागद' का
    कलम तेज चलती 'कागद' की
    जय , महिमा सारी 'कागद' की
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    ReplyDelete
  7. आदरणीय श्री दीनदयाल जी शर्मा साहिब,
    सादर वन्दे!
    यह कविताएं राजस्थानी अंचल की है और राजस्थानी भाषाई शब्द हिन्दी के देशज शब्द के अंतर्गत ही आते हैँ।'ळ'की जगह'लआया है यह हिन्दी मेँ स्वीकार्य है इस लिए'किरकिरी' जैसी कोई बात नहीँ है।इनको पढ़ते हुए आंचलिक उच्चारण मे जरूर अंतर आता है मगर व्यंजना एवम् भावार्थ मेँ कोई अंतर नहीँ आता।जबकि आप यह टाइप की भी गलती मानते हैँ।

    ReplyDelete
  8. चिरायु कविता जी,
    वन्दे!
    यह मेरी राजस्थानी कविताएं नहीँ हैँ बल्कि विशुद्द रूप से हिन्दी कविताएं हैँ।यह कविताएं 2005 मेँ प्रकाशित मेरे कविता संग्रह'थिरकती है तृष्णा ' मेँ शामिल हैँ।अकाल चित्र के रूप मेँ ऐसी लगभग 100 कविताएं देश की विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओँ मेँ स्थान पा चुकी हैँ।त्रिलोचन जी को ये बहुत पसंद थीँ।

    ReplyDelete
  9. मन को कुरेदते ये चित्रण !!


    जहरी बांडी* पढ के एकाएक ही पाली जिले की बंजर धरती उगलती बांडी नदी का ध्यान आ गया ।

    ReplyDelete
  10. बान्डी सान्प री ई एक प्रजाति है. राजस्थानी ई जानै है.दूजा नी जान सकै.

    ReplyDelete
  11. राजिस्थान की माटी से जुड़ी
    कविताओं की महक मन-मोहक है
    सभी कविताएँ सोच दिशा प्रदान कर रही हैं
    बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  12. bahut khoob.......
    sundar bhav......

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.