डॉ. वर्तिका नन्दा की दो कविताएं

डॉ. वर्तिका नन्दा
रचनाकार परिचय
वर्तिका नन्दा एक मीडिया यात्री हैं। मीडिया अध्यापन, मीडिया प्रयोग और प्रशिक्षण इनके पसंदीदा क्षेत्र हैं। इस समय वर्तिका दिल्ली विश्व विद्यालय की स्थाई सदस्य हैं। इससे पहले वे 2003 में इंडियन इंस्टीट्यूट आफॅ मास कम्यूनिकेशन, नई दिल्ली में बतौर एसोसिएट प्रोफेसर( टेलीविजन पत्रकारिता) चयनित हुईं और यहां तीन साल तक अध्यापन किया। इन्होंने पीएचडी बलात्कार और प्रिंट मीडिया की रिपोर्टिंग को लेकर किए गए अपने शोध पर हासिल की है।
इन्होंने अपनी मीडिया प्रयोग की शुरूआत 10 साल की उम्र से की और जालंधर दूरदर्शन की सबसे कम उम्र की एंकर बनीं। लेकिन टेलीविजन के साथ पूर्णकालिक जुड़ाव 1994 से हुआ। इन्होंने अपने करियर की शुरूआत जी टीवी से की, फिर करीब 7 साल तक एनडीटीवी से जुड़ी रहीं और वहां अपराध बीट की हेड बनीं। तीन साल तक भारतीय जनसंचार संस्थान में अध्यापन करने के बाद ये लोकसभा टीवी के साथ बतौर एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर जुड़ गईं। चैनल के गठन में इनकी एक निर्णायक भूमिका रही। यहां पर वे प्रशासनिक और प्रोडक्शन की जिम्मेदारियों के अलावा संसद से सड़क तक जैसे कई महत्वपूर्ण कार्यक्रमों को एंकर भी करती रहीं।
       इसके बाद वर्तिका सहारा इंडिया मीडिया में बतौर प्रोग्रामिंग हेड नियुक्त हुईं और सहारा के तमाम न्यूज चैनलों की प्रोग्रामिंग की जिम्मेदारी निभाती रहीं।
इस दौरान इन्हें प्रिंट मीडिया के साथ भी सक्रिय तौर से जुड़ने का मौका मिला और वे मासिक पत्रिका सब लोग के साथ संयुक्त संपादक के तौर पर भी जुड़ीं। इस समय वे त्रैमासिक मीडिया पत्रिका कम्यूनिकेशन टुडे के साथ एसोसिएट एडिटर के रूप में सक्रिय हैं।
प्रशिक्षक के तौर पर इन्होंने 2004 में लाल बहादुर शास्त्री अकादमी में प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों के लिए पहली बार मीडिया ट्रेनिंग का आयोजन किया। इसी साल भारतीय जनसंचार संस्थान, ढेंकानाल में वरिष्ठ रेल अधिकारियों के लिए आपात स्थितियों में मीडिया हैंडलिंग पर एक विशेष ट्रेनिंग आयोजित की। इसके अलावा टीवी के स्ट्रिंगरों और नए पत्रकारो के लिए दिल्ली, जयपुर, भोपाल, रांची, नैनीताल और पटना में कई वर्कशॉप आयोजित कीं। आईआईएमसी, जामिया, एशियन स्कूल ऑफ जर्नलिज्म वगैरह में पत्रकारिता में दाखिला लेने के इच्छुक छात्रों के लिए आयोजित इनकी वर्कशॉप काफी लोकप्रिय हो रही हैं।
2007 में इनकी किताब लिखी- 'टेलीविजन और अपराध पत्रकारिता' को भारतेंदु हरिश्चंद्र अवार्ड मिलायह पुरस्कार पत्रकारिता में हिंदी लेखन के लिए भारत का सूचना और प्रसारण मंत्रालय देता है। इसके अलावा 2007 में ही वर्तिका को सुधा पत्रकारिता सम्मान भी दिया गया। चर्चित किताब - 'मेकिंग न्यूज' (ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस से प्रकाशित ) में भी वर्तिका ने अपराध पर ही एक अध्याय लिखा है।
       2009 में वर्तिका और उदय सहाय की किताब मीडिया और जन संवाद प्रकाशित हुई। इसे सामयिक प्रकाशन ने छापा है। यह वर्तिका की तीसरी किताब है। 1989 में वर्तिका की पहली किताब (कविता संग्रह) मधुर दस्तक का प्रकाशन हुआ था।
बतौर मीडिया यात्री इन्हें 2007 में जर्मनी और 2008 में बैल्जियम जाने का भी अवसर मिला। 2008 में इन्होंने कॉमनवैल्थ ब्रॉडकास्ट एसोसिएशन के चेंज मैनेजमेंट कोर्स को भी पूरा किया।
इन दिनों वे मीडिया पर ही दो किताबों पर काम कर रही हैं। हिंदुस्तान, जनसत्ता, प्रभात खबर आदि में मीडिया पर कॉलम लिखने के अलावा ये कविताएं भी आम तौर पर मीडिया पर ही लिखना पसंद करती हैं।
वर्तिका की रूचि मीडिया ट्रेनिंग में रही है। वे उन सब के लिए मीडिया वर्कशाप्स आयोजित करती रही हैं जो मीडिया को करीब से जानना-समझना चाहते हैं।
***********************************************************************************
वो बत्ती, वो रातें

बचपन में
बत्ती चले जाने में भी
गजब का सुख था
हम चारपाई पे बैठे तारे गिनते
एक कोने से उस कोने तक
जहां तक फैल जाती नजर
हर बार गिनती गड़बड़ा जाती
हर बार विशवास गहरा जाता
अगली बार होगी सही गिनती
बत्ती का न होना
सपनों के लहलहा उठने का समय होता
सपने उछल-मचल आते
बड़े होंगे तो जाने क्या-क्या न करेंगें
बत्ती के गुल होते ही
जुगनू बनाने लगते अपना घेरा
उनकी सरगम सुख भर देती
पापा कहते भर लो जुगनू हथेली में
अम्मा हंस के पूछती
कौन-सी पढ़ी नई कविता
पास से आती घास की खुशबू में
कभी पूस की रात का ख्याल आता
कभी गौरा का
तभी बत्ती आ जाती
उसका आना भी उत्सव बनता
अम्मा कहती
होती है जिंदगी भी ऐसी ही
कभी रौशन, कभी अंधेरी
सच में बत्ती का जाना
खुले आसमान में देता था जो संवाद
उसे वो रातें ही समझ सकती हैं
जब होती थी बत्ती गुल।
********

मंगलसूत्र

पति को याद नहीं होता
पत्नी का जन्मदिन
उसकी पसंद
कोई नापसंद
उसके खाने का समय
उसकी खुशियां
उसके मायके का रास्ता
या यह भी कि शायद कोई रहता भी है
उस घर में

पति को नहीं रहता अहसास यह भी
कि पत्नी को क्यों याद रहता है
उसकी बनियान सूखी या नहीं
सब्जी उसके स्वाद की बनी या नहीं
जरूरत तो नहीं कहीं
उसके सर को मालिश की
कहीं थक तो नहीं गया वो बेचारा बहुत ज्यादा

पत्नी को सब याद रहता है
पति के बॉस का बर्थडे और
उनके कुत्तों के नाम
उसकी बहनों के पते और
उन्हें पड़ने वाले काम

पर पति की याद्दाश्त होती है
कमजोर ही
आखिर वो पति जो है
*******
वर्तिका नन्दा
संपर्क- www.vartikananda.blogspot.com
nandavartika@gmail.com

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

29 Responses to डॉ. वर्तिका नन्दा की दो कविताएं

  1. दोनों रचनाएँ बहुत ही अच्छी हैं

    ReplyDelete
  2. अच्छी प्रस्तुति है,बधाई हो।

    ReplyDelete
  3. सुंदर कविताएं ,सफल अभिव्यक्ति

    उसकी खुशियां
    उसके मायके का रास्ता
    या यह भी कि शायद कोई रहता भी है
    उस घर में


    बहुत बढ़िया

    अम्मा कहती
    होती है जिंदगी भी ऐसी ही
    कभी रौशन, कभी अंधेरी

    ज़िंदगी की हक़ीक़त

    ReplyDelete
  4. दोनों रचनाओं ने अलग प्रकार के सुख की सृष्टि की.
    हर बार गिनती गड़बड़ा जाती
    हर बार विशवास गहरा जाता
    एकदम ऐसा ही होता था मेरे साथ भी.और-
    उसकी खुशियां
    उसके मायके का रास्ता
    या यह भी कि शायद कोई रहता भी है
    उस घर में
    बहुत कम पति ही ऐसे होते हैं, जिन्हें पत्नी की खुशियों की परवाह होती है. बहुत सुन्दर कविताएं. बधाई.

    ReplyDelete
  5. क्योँ भाई सम्पादकगणराज
    क्योँ हो नाराज?
    आपकी
    हर पोस्ट पर
    करता हूं टिप्पणी
    जैसे की है आज !
    इतनी रात गए भी
    खोल कर बैठा हूं आखर कलश
    आपका दिल
    नहीँ पसीजता
    न जाने क्योँकर
    डाल देते हो
    टिप्पणियां
    डस्टबीन मेँ
    जो
    घर है
    मेरी कविताओँ का ?
    मेरी कविताओँ को
    नहीँ सुहाता
    यह अतिक्रमण
    बख्श दो उनको!

    आज फिर
    लाए हो
    कई बार की तरह
    अच्छी कविताएं
    इस के लिए
    साधुवाद !
    साधुवाद भी तो
    एक टिप्पणी ही है!

    ReplyDelete
  6. वर्तिका जी जो बात आपकी पहली कविता में है वह दूसरी में कहॉं खो गयी। यह सही है कि सभी कवितायें एक स्‍तर की नहीं हो सकतीं लेकिन दूसरी कविता कुछ ऐसी लग रही है जैसे औपचारिकता निभा दी गयी हो। पहली कविता पर विशेष बधाई।

    ReplyDelete
  7. vartika ji ki kavita "wo batti,wo raten"bachpan ka talpat milati badi suhati hai."mangalsutra"hamari andhi samajik pratibadhtaon me jakdi nari man ki sarthak abhivyakti hai.dono rachnayen achi hain.
    badhai ho vartika ji!

    ReplyDelete
  8. "वो बत्ती वो रातें"
    सचमुच … अच्छी भावपूर्ण कविता है ।
    बधाई वर्तिका नन्दा जी को !
    मुझे भी अपने बचपन की कुछ बातें याद हो आई ,
    अब इन्वर्टर के युग में बचपन के हिस्से में ये सुख कहां ?

    " मंगलसूत्र "
    पता नहीं किस कल्पनालोक की ,
    किस हक़ीक़त - विशेष की कविता है !?
    क्या हर पति हर पत्नी की कविता है यह ?
    हां के लिए कितने प्रतिशत परिवारों की कविता मानती हैं डॉक्टर साहिबा ?

    वर्तिकाजी सहित "आखर कलश" से जुड़े
    सभी मित्रों को निमंत्रण है ,
    कृपया शस्वरं पर पधारें !
    … सुनील गज्जाणीजी को भी !
    लिंक है -
    http://shabdswarrang.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. दोनों ही कविताएं गहरी अनुभूति का सुंदर नमूना हैं।

    ReplyDelete
  10. दोनो ही कविताये बहुत ही बढिया और मंगलसूत्र तो गज़ब की है।

    ReplyDelete
  11. वर्तिका जी ने पहली कविता में वाक़ई बहुत खूबसूरत भाव प्रस्तुत किये हैं.
    दूसरी कविता कुछ महिलाओं की व्यथा हो सकती हैं....

    ReplyDelete
  12. एक कविता बहुत अच्छी लगी। कौनसी? यह नहीं बताऊंगा!

    ReplyDelete
  13. दोनों ही कवितायेँ अपने आप में बहुत अच्छी हैं

    ReplyDelete
  14. Pahli kavita jahan saral-sadharan paristhitiyon se upje darshan ka srot hai... wahin doosri kavita ek or to vyangya bhi hai pati hone par aur ek gahree chot se nikli aah bhi hai jo shayad bharat ki har doosri mahila kee takleef kah jati hai.. aabhar Vartika ji

    ReplyDelete
  15. दोनों ही कविताएं आपके अनुभव तथा अभिव्यक्ति की गहराई को बयां करती हैं और दोनों को पढ़ते हुए जैसे कितना लंबा अंतराल तय हो जाता है! एक में बचपन का निश्छल उल्लास तो दूसरी में परिपक्व आकांक्षाओं और मासूम शिकायतों को शब्द देते हुए आप कितनी स्वाभाविकता से अपनी बात कह जाती हैं। दोनों कविताएं अपने-अपने समय और सरोकारों को जीती हैं। बधाई।

    ReplyDelete
  16. Vartika,
    dono kavitayen achchhi lagin. padya jo gadya ka kasav liye hai aur bilkul rozmarra ki zindagi ke lamhon ko kavita mein dhal diya hai. kabhi kabhi lagta hai ki kisi peeda ka ahsas hona aur baat hai lekin us peeda ko sarvjanin peeda ki unchai pradaan karne ki salahiyat se laish hona ekdam doosri cheez hai. Allah aisi taqat se aapko hamesha labrez rakhe. CP

    ReplyDelete
  17. उसके मायके का रास्ता
    या यह भी कि शायद कोई रहता भी है
    उस घर में
    बहुत कम पति ही ऐसे होते हैं, जिन्हें पत्नी की खुशियों की परवाह होती है. बहुत सुन्दर कविताएं. बधाई.

    ReplyDelete
  18. आप की पहली कविता की सहजता ने बंधा और मैं भी याद करने लगा अपने बचपन के दिन जब बिजली जाने के बाद हम शहर के कुछ खास तरह के लोगों कि गिनती करते. संयोग देखिये जैसे ही सात कि संख्या पूरी हो जाती, बिजली आ जाती. हमें लगता ये टोटका है. इसलिए मैं इस कविता कि गहरे में जाये बगैर सतह पर ही रहना चाहता हूँ. दूसरी कविता मुझे खास नहीं लगी. दूसरे शब्दों मैं इसे आपने स्त्री होने के नाते लिखा है, कवयित्री या पत्रकार कि झलक नहीं मिलती. नमस्कार...
    हरीश बी. शर्मा

    ReplyDelete
  19. बत्ती गुल के ताने- बाने को तो बखुबी बुना है बधाई लेकिन पति की कमजोर याद्दश्त से मैं सहमत नहीं हूं

    ReplyDelete
  20. guzare palon ko jis khubsurat ahsas ke sath bayan ki ya ha lazabab

    ReplyDelete
  21. पत्नी को सब याद रहता है
    पति के बॉस का बर्थडे और
    उनके कुत्तों के नाम
    उसकी बहनों के पते और
    उन्हें पड़ने वाले काम


    पर पति की याद्दाश्त होती है
    कमजोर ही
    आखिर वो पति जो है
    =========
    सच और सुंदर !

    ReplyDelete
  22. वर्तिका जी
    भावपूर्ण कविता, छंद में कहने की कोशिश करें

    बत्ती गुल हो जाने पर भी कितना अच्छा लगता है
    आसमान पर तारे देखो जुगनू जैसे दिखते हैं

    बचपन की वो मीठी यादें ख्वाबों में अब बस्ती हैं
    पापा अम्मा जी का हंसना कहना जुगनू को पकडो


    आप सभी पतियों को देखो इक जैसा मत समझो जी
    पत्नी के भी दोष गिनाओ, बात तभी कुछ जमती है

    ReplyDelete
  23. वर्तिकाजी, आपकी अभिव्यक्ति हृदय में उतर गयी। अपनी बात कहने में आप सफल हैं। बधाई..!

    ReplyDelete
  24. वर्तिका जी पहली कविता सचमुच बचपन याद दिला देती है। लेकिन दूसरी कविता हमारे समाज का एक चेहरा सामने रखती है। जो महानुभाव इसे एक स्‍त्री की कविता कह रहे हैं,उन्‍हें अपने कहे पर विचार करना चाहिए। कविता स्‍त्री या पुरुष की नहीं होती। वह मात्र अभिव्‍यक्ति होती है। बधाई आपको।

    ReplyDelete
  25. 'वो बत्ती, वो रातें' एक अच्छी कविता है क्योंकि बुनावट और संप्रेषण दोनों द्रष्टिकोण से प्रभावित करती है. जिज्ञासु मन की कोमल भावनाओं का चित्रण सुंदरता से किया गया है जो मन को छूता है. वर्तिका को एक अच्छी कविता के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  26. जब होती थी बत्ती गुल .....कविता बेहद भावपूर्ण और संवेदना से भरी हुई है...मंगलसूत्र में भी स्थितियों की बहुत सूक्ष्म अभिव्यक्ति है....पत्नी को क्यों याद रहता है कि उसकी बनियान सूखी या नहीं.वर्तिका को बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  27. achchi lagi dono kavitayen... ek emar ho gayi jugnuon ko dekhe... bachpan ki yaaden taza ho gayi..

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.