इमरोज़ की कवितायें - छलकते एहसास













()
एक दिन अमृता ने कहा 
चलो मिलकर रहते हैं
चलो मिलकर जीते हैं
और एक नई ज़िन्दगी शुरू हो गई 

()

फूलों से हाथ मिलाना 
अच्छा लगता है
लोगों से नहीं...
लोग फूल नहीं होते
फूल बहुत हैं
पर आदमी-
फूल नहीं हो पाता
जाने क्यूँ !

()

कानून सांस-सांस कैद 
मुहब्बत सांस-सांस आज़ाद
ज़िन्दगी जीकर ज़िन्दगी बनती है
शब्द जीकर 
नज़्म बनते हैं 
 *******

- इमरोज़ 

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

24 Responses to इमरोज़ की कवितायें - छलकते एहसास

  1. और नज़्म पूरी ज़िन्दगी की सहयात्री बन जाती है
    एक-एक करके कई दिलों तक अपने मुकाम बनाती है
    चंद शब्दों का हाथ थामे
    बहुत कुछ समझा जाती है

    ReplyDelete
  2. फूलों से हाथ मिलाना
    अच्छा लगता है
    लोगों से नहीं...
    लोग फूल नहीं होते
    फूल बहुत हैं
    पर आदमी-
    फूल नहीं हो पाता
    जाने क्यूँ !
    वाह बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! बिल्कुल सही है! बेहद पसंद आया!

    ReplyDelete
  3. Shabd nazm ban jindgi ke maayne sikhala jaate hai...

    ReplyDelete
  4. शब्द जी कर नज़्म बनते हैं ...बस इसमें ही सारा सार है ...
    आभार ...!!

    ReplyDelete
  5. बहुत-बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. ....प्रभावशाली प्रस्तुति,बधाई!!!!

    ReplyDelete
  7. इमरोज की तीन कविताएँ : छलकते एहसास की प्रतिक्रिया में
    दीनदयाल शर्मा की तीन कविताएँ

    (1)
    अमृता ने ही कहा
    चलो मिलकर चलते हैं
    चलो मिलकर जीते हैं...
    कितना मुश्किल है
    पहल करना
    महान थी अमृता.

    (2)
    किसे नहीं अच्छा लगता फूल
    सुन्दरता सबको भाती है
    आदमी भले ही
    फूल नहीं बन पाता
    पर जब
    वह मुस्कुराता है
    खिलखिलाता है
    तब होती है बौछार
    भांति - भांति के फूलों से
    महक उठता है वातावरण
    बहने लगती है भिन्नी भिन्नी बयार
    और आसमान में दिखने लगता है
    सतरंगी इन्द्रधनुष ...

    (3)
    कुछ क़ानून की
    कैद में
    और कुछ
    मुहब्बत में
    कैद हैं.
    हम मर कर भी
    जी जाएँ
    जीना इसी का नाम है.

    साहित्य संपादक ( मानद )
    टाबर टोली, हनुमानगढ़ जं. -335512
    मोब : 09414514666

    ReplyDelete
  8. dil ko chhoo lene wali kavita kahi hai aapne...

    padh kar bahut hee achha laga...

    saanjha karne ke liye shukriyaa!

    ReplyDelete
  9. इमरोज कि अभिव्यक्ति पढ़ने के लिए दिशा देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!
    कुछ अच्छा बाँट लेने का अहसास इसमें भी जुड़ा है.
    बाँट कर जो जियें या अहसास करें
    कीमत तो बढ़ ही जाती है.

    ReplyDelete
  10. gazb ki prastuti.........imroj ji ko padhna to hamesha hiachcha lagta hai.

    ReplyDelete
  11. ये एहसास ऐसे हैं जैसे जिंदगी ही नज़्म बन गयी हो....खूबसूरत

    ReplyDelete
  12. इस से बेहतर कविता पढी इन दिनो! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  13. rashmi ji,
    bahut dhanywaad jo aapne imroz ji ki nazmon ko yahan preshit kiya. shubhkaamnayen.

    ReplyDelete
  14. इन लघु रचनाओं का एक -एक शब्द अन्त:स्थल को छू गया । धन्यवाद आपका ।
    शशि पाधा

    ReplyDelete
  15. पर आदमी-
    फूल नहीं हो पाता
    जाने क्यूँ !

    rashmi ji ...
    aapne imroze ji ki itne khoobsorat shabdo se mulakat kervaai....bahut khoobsorat ahesaas raha....

    aadmi phool ugata hai....per kabhi unke safer ko uski khoosboo ko apne mein utar nahi pata....
    isliye vo kabhi phool nahi ho pata....

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति।
    इमरोज़ साहब को दिली मुबारकबाद।

    ReplyDelete
  17. 'आखर कलश' अब रफ्तार पकड़ने लगा है।बधाई!
    *मैनेँ कल देरे एक टिप्पणी की थी।शायद वह अंतरजाल मेँ खो गई!
    भाई कुलवंत सिँह, रवि पुरोहित , तारा सिँह व इमरोज जी की प्रभावित करती हैँ।आप खूब मेहनत कर रहे हैँ।पुस्तक समीक्षा व कविता प्रतियोगिता भी शुरु करेँ।एक विषय दे कर उस पर कविताएं आमंत्रित करेँ।इस से रचनाकारोँ की रचनात्मकता बढ़ेगी।
    -ओम पुरोहित'कागद'

    ReplyDelete
  18. * मन-1
    तम
    बढ़ता ही जाता
    भीतर बाहर
    तपिश बहुत है।

    तम-तपिश
    साथ साथ चलते
    नहीं होता रोशन
    कोई कोना मन का।

    तम की आगोश
    उन्मुक्त तपिश!

    त्याग तपिश
    जला अलाव
    कर रोशन
    जगती सारी!

    *मन-2
    चाहे खिलना
    पुहुप सजीला
    दामन शत्रु
    धारे
    सेज कंटिली।

    आती पासंग
    मोहक तितली
    हर बाधा
    करती पार
    मन चुराती
    होती पार।

    दामन पुहुप का
    खाता हिलौर
    भरता हामी;
    यही तो होता
    सार प्यार का !

    *मन-3
    तन में मन
    मन मेँ तन
    तन मन
    या
    मन तन
    किस के पासंग कौन
    नहीँ चीँतता
    पुहुप धारे मौन।

    कब खिलता
    कब झरता
    पौन हठिली
    पल पल बहती
    महक चुराती
    लेखा करता कौन !

    *मन-4

    जिस डाली
    खिलता पुहुप
    डाली वह
    जाती झुक
    धरा इतराती
    गंध चुराती ।

    पुहुप महकाता
    बिछा पांखुरी
    दामन धरा का
    खूब सजाता
    प्यार जताता
    खो देता
    देह सँसारी!
    -ओम पुरोहित'कागद'
    omkagad.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. imroz ji ki rachanayein.....SUBHANALLAH

    ReplyDelete
  20. इमरोज साहब की रचनाएँ मन को सदा की तरह फिर छू गयीं बधाई आखर कलश को इस चुनाव के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  21. imroz ji ko aakhr kalash me dekh bhut achha lga...imroz achha likhte he nhe achha jeete bhi h.AMRITA...unki kvita/unki soch/jise nhi ja skta kha/aur na he likha/jhalkti h wo to/uski aankho me/bolti h uske bolo me/rhti h dhanak c/aangan me/khil uthte h phool jhan/aaj bhi/uski mohabt ki roshnae se..../isse bda sch/mohbt ka/shayd nhi ho skta/k wo ../aaj bhi mojood h/us ghr k zre-zre me../roohani shiddat se.../jiska naam h IMROZ..../AIMI.../aur bhi bhut kuch.....thanks imroz ji

    ...............................................

    AMRITA...AMRITA....bs amrita...
    bs TU he TU...,
    aagaz bhi tu..anzaam bhi tu..
    Kaash..! hr mohabat..
    TU...he rhti..
    "MAI" na bnti....?
    (anjuananya)

    ReplyDelete
  22. imroz ji ko aakhr kalash me dekh bhut achha lga...imroz achha likhte he nhe achha jeete bhi h.AMRITA...unki kvita/unki soch/jise nhi ja skta kha/aur na he likha/jhalkti h wo to/uski aankho me/bolti h uske bolo me/rhti h dhanak c/aangan me/khil uthte h phool jhan/aaj bhi/uski mohabt ki roshnae se..../isse bda sch/mohbt ka/shayd nhi ho skta/k wo ../aaj bhi mojood h/us ghr k zre-zre me../roohani shiddat se.../jiska naam h IMROZ..../AIMI.../aur bhi bhut kuch.....thanks imroz ji

    ...............................................

    AMRITA...AMRITA....bs amrita...
    bs TU he TU...,
    aagaz bhi tu..anzaam bhi tu..
    Kaash..! hr mohabat..
    TU...he rhti..
    "MAI" na bnti....?
    (anjuananya)

    ReplyDelete
  23. गागर में सागर

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.