नीरज दइया की कविताएँ












राजकुमारी : कुछ कविताएं

-1-
वह जा रही थी
अपने घर
बैठ कर रिक्शा में
लगी- राजकुमारी-सी !

मैंने कुछ नहीं किया
मैं जल्दी में था ।
बस खुशी छ्लकी
अपनेआप ।

और उसने भी
देखा होगा जल्दी में,
मगर किसे-
मुझे या खुशी को ?
***

-2-
जिस किसी से हुआ हो प्रेम
यदि वह प्रेम है
तो क्या कम होती है वह-
किसी राजकुमारी से ?
***

-3-
किया ही नहीं
जीवन में कभी
नाप-तोल।
अब क्या करूंगा ?

मैंने दिया
जितनी चाह थी ।

राजकुमारी तुमने दिया
बस उतना ही लिया-
मैंने तुम्हारा प्रेम !

बाकी का प्रेम
जो नहीं दिया
उसे छूना तो दूर
देखा भी नहीं ।
***

-4-
जानता था कवि
राजकुमारी का प्यार
वह नहीं है

जानता था कवि
इस का अंत-
कल्पनाओं के टूटे पंख
कुछ बेतरतीब चित्र
बहुत उदास रंग
घायल सपने
और खत्म न होने वाली
पीड़ा में तरबतर याद है

फिर भी किया
उस ने प्यार
यह मानते हुए-
इन सब से बड़ा है
प्यार का होना
जिस के लिए
सब स्वीकार है ।
***

-5-
राजकुमारी ने बताए
अपने महल के
एक के बाद एक
बहुत सारे रहस्य !
वह गुप्त रास्ता
जो खोल देता
सारे रहस्य
वहां आकर रूकी
और रूकी रही

नहीं खोलने दिया
नहीं खोला वह दरवाजा

वह जो भी था
इंतजार में
अब भी स्मृति में
वहीं खड़ा है
और राजकुमारी
खोई है किसी स्वप्न में
वहां भी कोई राजकुमार नहीं ।
***

-6-
राजकुमारी ने देखा
अपनी छत से चांद

चांद ने भी देखा होगा उसे

चांद ने कुछ भी सोचा होगा
किसी कवि जैसा देख कर
चांद ने चांद तो नहीं सोचा होगा !
***

-7-
दोहरी जिंदगी जीने को
श्रापित है राजकुमारी
चलता है निरंतर
उस के भीतर युद्ध

युद्ध-विश्राम के समय
वह सोचती है-
हां यह ठीक है
और जैसे ही बढ़ाती है
दो-चार कदम आगे
रूक जाती है वहीं
सोचते हुए-
नहीं, यह गलत है ।
***
- नीरज दइया

Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

6 Responses to नीरज दइया की कविताएँ

  1. bahut hi gahan abhviyakti..........prem ke swaroop ko bahu thi sundar shabdon mein piroya hai.

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत अभिव्यक्ति. अंदाज़ ज़रा हटकर..अच्छा लगने वाला...

    ReplyDelete
  3. पलके झपक नहीं पायी,अच्छी कविता.

    विकास पाण्डेय
    www.विचारो का दर्पण.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. नीरज जी संवेदनशील कवि हैं. इन कविताओं के लिए आखर कलश और कवि को बधाई.

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.