नीरज गोस्वामी की गजलें














.
देखने में मकां जो पक्का है
दर हकीकत बड़ा ही कच्चा है

जिंदगी कैसे प्यारे जी जाये
ये सिखाता हरएक बच्चा है

छांव मिलती जहां दोपहरी में
वोही काशी है वोही मक्का है

जो अकेले खड़ा भी मुस्काये
वो बशर यार सबसे सच्चा है

जिसको थामा था हमने गिरते में
दे रहा वो ही हमको धक्का है

आप रब से छुपायेंगे कैसे
जो छुपाकर जहां से रख्खा है

जब चले राह सच की हमनीरज
हर कोइ देख हक्का बक्का है

 ******

.
ज़िन्दगी में यहां वहां भटके
क्या मिला अंत में बता खटके

आचरण में बात ला पाये
वक्त जाया किया उसे रटके

आखरी जब उड़ान हो या रब
मन हमारा ज़मीं ना अटके

वार पीछे से कर गये अपने
काश करते मुकाबला डटके

संत है वो कि जो रहा करता
भीड़ के संग भीड़ से कटके

राह आसान हो गयी उनकी
जो चलें यार बस जरा हटके

बोलना सच शुरू किया जबसे
लोग फिर पास ही नहीं फटके

आजमाना डोर रिश्तों की
टूट जाती अगर लगे झटके

रहनुमां से डरा करो नीरज
क्या पता कब कहां किसे पटके
*******
- नीरज गोस्वामी

Posted in . Bookmark the permalink. RSS feed for this post.

18 Responses to नीरज गोस्वामी की गजलें

  1. देखने में मकां जो पक्का है
    दर हकीकत बड़ा ही कच्चा है
    ग़ज़ल का आगाज़ ज़िन्दगी कि हकीकत को एक बिंदु में समेट कर मतले में पेश कर पाया है जिसके लिए नीरज को मेरी बधाई कबूल हो. रदीफ़ भी बेजोड़ इस्तेमाल किया है जो खूब फब रहा है भाव पूर्ण मिस्रोज़ के साथ

    ReplyDelete
  2. वो बशर यार सबसे सच्चा है..

    नीरज साहब को उनकी खुबसूरत ग़ज़ल के लिए बधाई.

    आखर-कलश टीम को प्रस्तुति के लिए बधाई.

    सुलभ

    ReplyDelete
  3. niraj ji ki to har prastuti lajawaab hoti hai........badhayi.

    ReplyDelete
  4. आप सभी साहित्य शिल्पियों का बहुत-बहुत आभार!!

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी रचना।
    इसे 13.02.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. आखर कलश की टीम को बेहतरीन ब्लॉग के लिए बधाई .....
    दिल से ....

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया प्रस्तुति।बधाई।

    ReplyDelete
  8. aap yuhi likhte rahe ,ham padte rahe.
    www.apnimaati.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन अशआर से भरी ग़ज़लें।
    अच्‍छा फलसफ़ाना नज़रिया है दोनों ग़ज़लों में।
    नीरज भाई तुसी ग्रेट हो।

    तोहफा कबूल करो।

    ReplyDelete
  10. रहनुमां से डरा करो नीरज
    क्या पता कब कहां किसे पटके..
    kya gazb ashaar hain sabhi ke sabhi!

    ReplyDelete
  11. १.
    देखने में मकां जो पक्का है
    दर हकीकत बड़ा ही कच्चा है
    Kya kahen? Aap nishabd kar dete hain!

    ReplyDelete
  12. आजमाना न डोर रिश्तों की
    टूट जाती अगर लगे झटके


    रहनुमां से डरा करो नीरज
    क्या पता कब कहां किसे पटके

    इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

    ReplyDelete
  13. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,
    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,
    कलम के पुजारी अगर सो गये तो
    ये धन के पुजारी
    वतन बेंच देगें।



    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में प्रोफेशन से मिशन की ओर बढ़ता "जनोक्ति परिवार "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ ,

    ReplyDelete
  14. kya kahne neeraj ji.donon gazalein umda hain .wah.

    ReplyDelete
  15. sada zaban me bahtarin gazlon ke liy mubarakbaad

    ReplyDelete
  16. Wah wah Neeraj ji.......bahut hi umda gazalein....badhaai,

    ReplyDelete

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए कोटिशः धन्यवाद और आभार !
कृपया गौर फरमाइयेगा- स्पैम, (वायरस, ट्रोज़न और रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त) टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन ना चाहते हुवे भी लागू है, अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ पर प्रकट व प्रदर्शित होने में कुछ समय लग सकता है. कृपया अपना सहयोग बनाए रखें. धन्यवाद !
विशेष-: असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

About this blog

आखर कलश पर हिन्दी की समस्त विधाओं में रचित मौलिक तथा स्तरीय रचनाओं को स्वागत है। रचनाकार अपनी रचनाएं हिन्दी के किसी भी फोंट जैसे श्रीलिपि, कृतिदेव, देवलिस, शुषा, चाणक्य आदि में माईक्रोसोफट वर्ड अथवा पेजमेकर में टाईप कर editoraakharkalash@gmail.com पर भेज सकते है। रचनाएं अगर अप्रकाशित, मौलिक और स्तरीय होगी, तो प्राथमिकता दी जाएगी। अगर किसी अप्रत्याशित कारणवश रचनाएं एक सप्ताह तक प्रकाशित ना हो पाए अथवा किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त ना हो पाए तो कृपया पुनः स्मरण दिलवाने का कष्ट करें।

महत्वपूर्णः आखर कलश का प्रकाशन पूणरूप से अवैतनिक किया जाता है। आखर कलश का उद्धेश्य हिन्दी साहित्य की सेवार्थ वरिष्ठ रचनाकारों और उभरते रचनाकारों को एक ही मंच पर उपस्थित कर हिन्दी को और अधिक सशक्त बनाना है। और आखर कलश के इस पुनीत प्रयास में समस्त हिन्दी प्रेमियों, साहित्यकारों का मार्गदर्शन और सहयोग अपेक्षित है।

आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचनाकार की रचना व अन्य सामग्री की कॉपी करना अथवा अपने नाम से कहीं और प्रकाशित करना अवैधानिक है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होगी जिसने सामग्री कॉपी की होगी। अगर आखर कलश में प्रकाशित किसी भी रचना को प्रयोग में लाना हो तो उक्त रचनाकार की सहमति आवश्यक है जिसकी रचना आखर कलश पर प्रकाशित की गई है इस संन्दर्भ में एडिटर आखर कलश से संपर्क किया जा सकता है।

अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी एवं सुझाव हेत editoraakharkalash@gmail.com पर सम्‍पर्क करें।

Search

Swedish Greys - a WordPress theme from Nordic Themepark. Converted by LiteThemes.com.